ranj-o-gham maange hai andoh-o-bala maange hai | रंज-ओ-ग़म माँगे है अंदोह-ओ-बला माँगे है - Jaan Nisar Akhtar

ranj-o-gham maange hai andoh-o-bala maange hai
dil vo mujrim hai ki khud apni saza maange hai

chup hai har zakhm-e-guloo chup hai shaheedon ka lahu
dasht-e-qaatil hai jo mehnat ka sila maange hai

tu bhi ik daulat-e-naayaab hai par kya kahiye
zindagi aur bhi kuchh tere siva maange hai

khoi khoi ye nigaahen ye khameeda palkein
haath uthaaye koi jis tarah dua maange hai

raas ab aayegi ashkon ki na aahon ki fazaa
aaj ka pyaar nayi aab-o-hawa maange hai

baansuri ka koi naghma na sahi cheekh sahi
har sukoot-e-shab-e-gham koi sada maange hai

laakh munkir sahi par zauq-e-parastish mera
aaj bhi koi sanam koi khuda maange hai

saans vaise hi zamaane ki ruki jaati hai
vo badan aur bhi kuchh tang qaba maange hai

dil har ik haal se begaana hua jaata hai
ab tavajjoh na taghaaful na ada maange hai

रंज-ओ-ग़म माँगे है अंदोह-ओ-बला माँगे है
दिल वो मुजरिम है कि ख़ुद अपनी सज़ा माँगे है

चुप है हर ज़ख़्म-ए-गुलू चुप है शहीदों का लहू
दस्त-ए-क़ातिल है जो मेहनत का सिला माँगे है

तू भी इक दौलत-ए-नायाब है पर क्या कहिए
ज़िंदगी और भी कुछ तेरे सिवा माँगे है

खोई खोई ये निगाहें ये ख़मीदा पलकें
हाथ उठाए कोई जिस तरह दुआ माँगे है

रास अब आएगी अश्कों की न आहों की फ़ज़ा
आज का प्यार नई आब-ओ-हवा माँगे है

बाँसुरी का कोई नग़्मा न सही चीख़ सही
हर सुकूत-ए-शब-ए-ग़म कोई सदा माँगे है

लाख मुनकिर सही पर ज़ौक़-ए-परस्तिश मेरा
आज भी कोई सनम कोई ख़ुदा माँगे है

साँस वैसे ही ज़माने की रुकी जाती है
वो बदन और भी कुछ तंग क़बा माँगे है

दिल हर इक हाल से बेगाना हुआ जाता है
अब तवज्जोह न तग़ाफ़ुल न अदा माँगे है

- Jaan Nisar Akhtar
0 Likes

Dua Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Jaan Nisar Akhtar

As you were reading Shayari by Jaan Nisar Akhtar

Similar Writers

our suggestion based on Jaan Nisar Akhtar

Similar Moods

As you were reading Dua Shayari Shayari