abhi ik shor sa utha hai kahi | अभी इक शोर सा उठा है कहीं - Jaun Elia

abhi ik shor sa utha hai kahi
koi khaamosh ho gaya hai kahi

hai kuch aisa ki jaise ye sab kuch
is se pehle bhi ho chuka hai kahi

tujh ko kya ho gaya ki cheezein ko
kahi rakhta hai dhoondhta hai kahi

jo yahan se kahi na jaata tha
vo yahan se chala gaya hai kahi

aaj shamshaan ki si boo hai yahan
kya koi jism jal raha hai kahi

hum kisi ke nahin jahaan ke siva
aisi vo khaas baat kya hai kahi

tu mujhe dhundh main tujhe dhundhun
koi hum mein se rah gaya hai kahi

kitni vehshat hai darmiyaan-e-hujoom
jis ko dekho gaya hua hai kahi

main to ab shehar mein kahi bhi nahin
kya mera naam bhi likha hai kahi

अभी इक शोर सा उठा है कहीं
कोई ख़ामोश हो गया है कहीं

है कुछ ऐसा कि जैसे ये सब कुछ
इस से पहले भी हो चुका है कहीं

तुझ को क्या हो गया कि चीज़ों को
कहीं रखता है ढूँढता है कहीं

जो यहाँ से कहीं न जाता था
वो यहाँ से चला गया है कहीं

आज शमशान की सी बू है यहाँ
क्या कोई जिस्म जल रहा है कहीं

हम किसी के नहीं जहाँ के सिवा
ऐसी वो ख़ास बात क्या है कहीं

तू मुझे ढूँड मैं तुझे ढूँडूँ
कोई हम में से रह गया है कहीं

कितनी वहशत है दरमियान-ए-हुजूम
जिस को देखो गया हुआ है कहीं

मैं तो अब शहर में कहीं भी नहीं
क्या मिरा नाम भी लिखा है कहीं

- Jaun Elia
33 Likes

Duniya Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Jaun Elia

As you were reading Shayari by Jaun Elia

Similar Writers

our suggestion based on Jaun Elia

Similar Moods

As you were reading Duniya Shayari Shayari