bada ehsaan hum farma rahe hain | बड़ा एहसान हम फ़रमा रहे हैं - Jaun Elia

bada ehsaan hum farma rahe hain
ki un ke khat unhen lautaa rahe hain

nahin tark-e-mohabbat par vo raazi
qayamat hai ki hum samjha rahe hain

yaqeen ka raasta tay karne waale
bahut tezi se waapas aa rahe hain

ye mat bhoolo ki ye lamhaat hum ko
bichhadne ke liye milva rahe hain

ta'ajjub hai ki ishq-o-aashiqi se
abhi kuch log dhoka kha rahe hain

tumhein chaahenge jab chin jaayogi tum
abhi hum tum ko arzaan pa rahe hain

kisi soorat unhen nafrat ho hum se
hum apne aib khud ginwa rahe hain

vo paagal mast hai apni wafa mein
meri aankhon mein aansu aa rahe hain

daleelon se use qaail kiya tha
daleelen de ke ab pachta rahe hain

tiri baanhon se hijrat karne waale
naye maahol mein ghabra rahe hain

ye jazb-e-ishq hai ya jazba-e-rehm
tire aansu mujhe rulva rahe hain

ajab kuch rabt hai tum se ki tum ko
hum apna jaan kar thukra rahe hain

wafa ki yaadgaarein tak na hongi
meri jaan bas koi din ja rahe hain

बड़ा एहसान हम फ़रमा रहे हैं
कि उन के ख़त उन्हें लौटा रहे हैं

नहीं तर्क-ए-मोहब्बत पर वो राज़ी
क़यामत है कि हम समझा रहे हैं

यक़ीं का रास्ता तय करने वाले
बहुत तेज़ी से वापस आ रहे हैं

ये मत भूलो कि ये लम्हात हम को
बिछड़ने के लिए मिलवा रहे हैं

तअ'ज्जुब है कि इश्क़-ओ-आशिक़ी से
अभी कुछ लोग धोका खा रहे हैं

तुम्हें चाहेंगे जब छिन जाओगी तुम
अभी हम तुम को अर्ज़ां पा रहे हैं

किसी सूरत उन्हें नफ़रत हो हम से
हम अपने ऐब ख़ुद गिनवा रहे हैं

वो पागल मस्त है अपनी वफ़ा में
मिरी आँखों में आँसू आ रहे हैं

दलीलों से उसे क़ाइल किया था
दलीलें दे के अब पछता रहे हैं

तिरी बाँहों से हिजरत करने वाले
नए माहौल में घबरा रहे हैं

ये जज़्ब-ए-इश्क़ है या जज़्बा-ए-रहम
तिरे आँसू मुझे रुलवा रहे हैं

अजब कुछ रब्त है तुम से कि तुम को
हम अपना जान कर ठुकरा रहे हैं

वफ़ा की यादगारें तक न होंगी
मिरी जाँ बस कोई दिन जा रहे हैं

- Jaun Elia
19 Likes

Aansoo Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Jaun Elia

As you were reading Shayari by Jaun Elia

Similar Writers

our suggestion based on Jaun Elia

Similar Moods

As you were reading Aansoo Shayari Shayari