na sahi aish guzaara hi sahi | न सही ऐश, गुज़ारा ही सही - Jawwad Sheikh

na sahi aish guzaara hi sahi
yaani gar tu nahin duniya hi sahi

chhodije kuchh to mera bhi mujh mein
khoon ka aakhiri qatra hi sahi

ghaur to kijeye meri baaton par
umr mein aap se chhota hi sahi

ranj ham ne bhi juda paaye hain
aap yaktaa hain to yaktaa hi sahi

main bura hoon to hoon ab kya kijeye
koi achha hai to achha hi sahi

kis ko seene se lagaaun tire b'ad
jaate jaate koi dhoka hi sahi

kar kuchh aisa ki tujhe yaad rakhoon
bhool jaane ka taqaza hi sahi

tum pe kab rok thi chalte jaate
meri sochon pe to pahra hi sahi

vo kisi taur na hoga mera
chalo aisa hai to aisa hi sahi

surkh karne lagi har shay javvaad
yaad ka rang sunhara hi sahi

न सही ऐश, गुज़ारा ही सही
यानी गर तू नहीं दुनिया ही सही

छोड़िए कुछ तो मिरा भी मुझ में
ख़ून का आख़िरी क़तरा ही सही

ग़ौर तो कीजे मिरी बातों पर
उम्र में आप से छोटा ही सही

रंज हम ने भी जुदा पाए हैं
आप यकता हैं तो यकता ही सही

मैं बुरा हूँ तो हूँ अब क्या कीजे
कोई अच्छा है तो अच्छा ही सही

किस को सीने से लगाऊँ तिरे ब'अद
जाते जाते कोई धोका ही सही

कर कुछ ऐसा कि तुझे याद रखूँ
भूल जाने का तक़ाज़ा ही सही

तुम पे कब रोक थी चलते जाते
मेरी सोचों पे तो पहरा ही सही

वो किसी तौर न होगा मेरा
चलो ऐसा है तो ऐसा ही सही

सुर्ख़ करने लगी हर शय 'जव्वाद'
याद का रंग सुनहरा ही सही

- Jawwad Sheikh
9 Likes

Raasta Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Jawwad Sheikh

As you were reading Shayari by Jawwad Sheikh

Similar Writers

our suggestion based on Jawwad Sheikh

Similar Moods

As you were reading Raasta Shayari Shayari