watan ki sar-zameen se ishq o ulfat ham bhi rakhte hain | वतन की सर-ज़मीं से इश्क़ ओ उल्फ़त हम भी रखते हैं - Josh Malsiyani

watan ki sar-zameen se ishq o ulfat ham bhi rakhte hain
khatkati jo rahe dil mein vo hasrat ham bhi rakhte hain

zaroorat ho to mar mitne ki himmat ham bhi rakhte hain
ye jurat ye shujaat ye basaalat ham bhi rakhte hain

zamaane ko hila dene ke daave baandhne waalo
zamaane ko hila dene ki taqat ham bhi rakhte hain

bala se ho agar saara jahaan un ki himayat par
khuda-e-har-do-aalam ki himayat ham bhi rakhte hain

bahaar-e-gulshan-e-ummeed bhi sairaab ho jaaye
karam ki aarzoo ai abr-e-rahmat ham bhi rakhte hain

gila na-mehrbaani ka to sab se sun liya tum ne
tumhaari meherbaani ki shikaayat ham bhi rakhte hain

bhalaai ye ki aazaadi se ulfat tum bhi rakhte ho
buraai ye ki aazaadi se ulfat ham bhi rakhte hain

hamaara naam bhi shaayad gunehgaaro mein shaamil ho
janaab-e-'josh se sahab salaamat ham bhi rakhte hain

वतन की सर-ज़मीं से इश्क़ ओ उल्फ़त हम भी रखते हैं
खटकती जो रहे दिल में वो हसरत हम भी रखते हैं

ज़रूरत हो तो मर मिटने की हिम्मत हम भी रखते हैं
ये जुरअत ये शुजाअत ये बसालत हम भी रखते हैं

ज़माने को हिला देने के दावे बाँधने वालो
ज़माने को हिला देने की ताक़त हम भी रखते हैं

बला से हो अगर सारा जहाँ उन की हिमायत पर
ख़ुदा-ए-हर-दो-आलम की हिमायत हम भी रखते हैं

बहार-ए-गुलशन-ए-उम्मीद भी सैराब हो जाए
करम की आरज़ू ऐ अब्र-ए-रहमत हम भी रखते हैं

गिला ना-मेहरबानी का तो सब से सुन लिया तुम ने
तुम्हारी मेहरबानी की शिकायत हम भी रखते हैं

भलाई ये कि आज़ादी से उल्फ़त तुम भी रखते हो
बुराई ये कि आज़ादी से उल्फ़त हम भी रखते हैं

हमारा नाम भी शायद गुनहगारों में शामिल हो
जनाब-ए-'जोश' से साहब सलामत हम भी रखते हैं

- Josh Malsiyani
6 Likes

Motivational Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Josh Malsiyani

As you were reading Shayari by Josh Malsiyani

Similar Writers

our suggestion based on Josh Malsiyani

Similar Moods

As you were reading Motivational Shayari Shayari