sirf itne jurm par hangaama hota jaaye hai | सिर्फ़ इतने जुर्म पर हंगामा होता जाए है - Kaif Bhopali

sirf itne jurm par hangaama hota jaaye hai
tera deewaana tiri galiyon mein dekha jaaye hai

aap kis kis ko bhala sooli chadhate jaayenge
ab to saara shehar hi mansoor banta jaaye hai

dilbaron ke bhes mein firte hain choron ke giroh
jaagte rahiyo ki in raaton mein lootaa jaaye hai

tera may-khaana hai ya khairaat-khaana saaqiya
is tarah milta hai baada jaise baksha jaaye hai

may-kasho aage badho tishna-labo aage badho
apna haq maanga nahin jaata hai chheena jaaye hai

maut aayi aur tasavvur aap ka ruksat hua
jaise manzil tak koi rah-rau ko pahuncha jaaye hai

सिर्फ़ इतने जुर्म पर हंगामा होता जाए है
तेरा दीवाना तिरी गलियों में देखा जाए है

आप किस किस को भला सूली चढ़ाते जाएँगे
अब तो सारा शहर ही मंसूर बनता जाए है

दिलबरों के भेस में फिरते हैं चोरों के गिरोह
जागते रहियो कि इन रातों में लूटा जाए है

तेरा मय-ख़ाना है या ख़ैरात-ख़ाना साक़िया
इस तरह मिलता है बादा जैसे बख़्शा जाए है

मय-कशो आगे बढ़ो तिश्ना-लबो आगे बढ़ो
अपना हक़ माँगा नहीं जाता है छीना जाए है

मौत आई और तसव्वुर आप का रुख़्सत हुआ
जैसे मंज़िल तक कोई रह-रौ को पहुँचा जाए है

- Kaif Bhopali
1 Like

Freedom Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Kaif Bhopali

As you were reading Shayari by Kaif Bhopali

Similar Writers

our suggestion based on Kaif Bhopali

Similar Moods

As you were reading Freedom Shayari Shayari