main rooun hoon rona mujhe bhaaye hai | मैं रोऊँ हूँ रोना मुझे भाए है - Kaleem Aajiz

main rooun hoon rona mujhe bhaaye hai
kisi ka bhala is mein kya jaaye hai

dil aaye hai phir dil mein dard aaye hai
yun hi baat mein baat badh jaaye hai

koi der se haath failaaye hai
vo na-mehrabaan aaye hai jaaye hai

mohabbat mein dil jaaye gar jaaye hai
jo khoye nahin hai vo kya paaye hai

junoon sab ishaare mein kah jaaye hai
magar aql ko kab samajh aaye hai

pukaaroon hoon lekin na baaz aaye hai
ye duniya kahaan doobne jaaye hai

khamoshi mein har baat ban jaaye hai
jo bole hai deewaana kahlaaye hai

qayamat jahaan aayegi aayegi
yahan subh aaye hai shaam aaye hai

junoon khatm daar-o-rasan par nahin
ye rasta bahut door tak jaaye hai

मैं रोऊँ हूँ रोना मुझे भाए है
किसी का भला इस में क्या जाए है

दिल आए है फिर दिल में दर्द आए है
यूँ ही बात में बात बढ़ जाए है

कोई देर से हाथ फैलाए है
वो ना-मेहरबाँ आए है जाए है

मोहब्बत में दिल जाए गर जाए है
जो खोए नहीं है वो क्या पाए है

जुनूँ सब इशारे में कह जाए है
मगर अक़्ल को कब समझ आए है

पुकारूँ हूँ लेकिन न बाज़ आए है
ये दुनिया कहाँ डूबने जाए है

ख़मोशी में हर बात बन जाए है
जो बोले है दीवाना कहलाए है

क़यामत जहाँ आएगी आएगी
यहाँ सुब्ह आए है शाम आए है

जुनूँ ख़त्म दार-ओ-रसन पर नहीं
ये रस्ता बहुत दूर तक जाए है

- Kaleem Aajiz
0 Likes

Mohabbat Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Kaleem Aajiz

As you were reading Shayari by Kaleem Aajiz

Similar Writers

our suggestion based on Kaleem Aajiz

Similar Moods

As you were reading Mohabbat Shayari Shayari