unhen fariyaad na-zebaa lage hai | उन्हें फ़रियाद ना-ज़ेबा लगे है - Kaleem Aajiz

unhen fariyaad na-zebaa lage hai
sitam karte bahut achha lage hai

khuda us bazm mein haafiz hai dil ka
yahan har roz ik charka lage hai

unhen apne bhi lagte hain paraaye
paraaya bhi hamein apna lage hai

baghair us bewafa se jee lagaaye
jo sach poocho to jee kis ka lage hai

mohabbat dil-lagi jaano ho pyaare
wahi jaane hai dil jis ka lage hai

utha aage se saaqi jaam-o-meena
dil achha ho to sab achha lage hai

zara dekh aaina meri wafa ka
ki tu kaisa tha ab kaisa lage hai

ghazal sun kar meri kehne lage vo
mujhe ye shakhs deewaana lage hai

zaroor aaya karo jalse mein aajiz
na aao ho to sannaata lage hai

उन्हें फ़रियाद ना-ज़ेबा लगे है
सितम करते बहुत अच्छा लगे है

ख़ुदा उस बज़्म में हाफ़िज़ है दिल का
यहाँ हर रोज़ इक चरका लगे है

उन्हें अपने भी लगते हैं पराए
पराया भी हमें अपना लगे है

बग़ैर उस बेवफ़ा से जी लगाए
जो सच पूछो तो जी किस का लगे है

मोहब्बत दिल-लगी जानो हो प्यारे
वही जाने है दिल जिस का लगे है

उठा आगे से साक़ी जाम-ओ-मीना
दिल अच्छा हो तो सब अच्छा लगे है

ज़रा देख आइना मेरी वफ़ा का
कि तू कैसा था अब कैसा लगे है

ग़ज़ल सुन कर मिरी कहने लगे वो
मुझे ये शख़्स दीवाना लगे है

ज़रूर आया करो जलसे में 'आजिज़'
न आओ हो तो सन्नाटा लगे है

- Kaleem Aajiz
0 Likes

Mehfil Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Kaleem Aajiz

As you were reading Shayari by Kaleem Aajiz

Similar Writers

our suggestion based on Kaleem Aajiz

Similar Moods

As you were reading Mehfil Shayari Shayari