titli kanwal gulaab ki rangat mein pad gaye | तितली कंवल गुलाब की रंगत में पड़ गये - Kashif Adeeb Makanpuri

titli kanwal gulaab ki rangat mein pad gaye
jab se huzoor aapki sohbat mein pad gaye

tumko to hoshiyaar samjhte the ham magar
tumko ye kya hua ki mohabbat mein pad gaye

ham isliye bhi aur tarqqi na kar sake
bhole se chehre dekhe muravvat mein pad gaye

khud hamne apna saath bahut door tak diya
aakhir mein ham bhi apni zururat mein pad gaye

tumne zara si baat ko jab tool kar diya
jitne bhi aqlmand the hairat mein pad gaye

jungle mein koi aadmi aaya zuroor hai
kyun jaanwar bhi bugzoon adavat mein pad gaye

us din se apne vaare nyaare hi ho gaye
jis din se tere koochay ulfat mein pad gaye

izhaare ishq jab se kiya hai zabaan se
kaashif adeeb tum bhi qayamat mein pad gaye

तितली कंवल गुलाब की रंगत में पड़ गये
जब से हुज़ूर आपकी सोहबत में पड़ गये

तुमको तो होशियार समझते थे हम मगर
तुमको ये क्या हुआ कि मोहब्बत में पड़ गये

हम इसलिये भी और तरक़्क़ी न कर सके
भोले से चेहरे देखे मुरव्वत में पड़ गये

ख़ुद हमने अपना साथ बहुत दूर तक दिया
आख़िर में हम भी अपनी ज़ुरुरत में पड़ गये

तुमने ज़रा सी बात को जब तूल कर दिया
जितने भी अक़्लमन्द थे हैरत में पड़ गये

जंगल में कोई आदमी आया ज़ुरूर है
क्यूँ जानवर भी बुग़्ज़ो अदावत में पड़ गये

उस दिन से अपने वारे न्यारे ही हो गये
जिस दिन से तेरे कूचऐ उल्फ़त में पड़ गये

इज़हारे इश्क़ जब से किया है ज़बान से
काशिफ़ अदीब तुम भी क़यामत में पड़ गये

- Kashif Adeeb Makanpuri
1 Like

Urdu Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Kashif Adeeb Makanpuri

As you were reading Shayari by Kashif Adeeb Makanpuri

Similar Writers

our suggestion based on Kashif Adeeb Makanpuri

Similar Moods

As you were reading Urdu Shayari Shayari