ik pal mein ik sadi ka maza hum se poochiye | इक पल में इक सदी का मज़ा हम से पूछिए - Khumar Barabankvi

ik pal mein ik sadi ka maza hum se poochiye
do din ki zindagi ka maza hum se poochiye

bhule hain rafta rafta unhen muddaton mein hum
qiston mein khudkushi ka maza hum se poochiye

aagaz-e-aashiqi ka maza aap jaaniye
anjaam-e-aashiqi ka maza hum se poochiye

jalte diyon mein jalte gharo jaisi zau kahaan
sarkaar raushni ka maza hum se poochiye

vo jaan hi gaye ki humein unse pyaar hai
aankhon ki mukhbirii ka maza hamse poochiye

hansne ka shauq hamko bhi tha aap ki tarah
hansiye magar hasi ka maza hum se poochiye

hum tauba kar ke mar gaye be-maut ai khumaar
tauheen-e-may-kashi ka maza hum se poochiye

इक पल में इक सदी का मज़ा हम से पूछिए
दो दिन की ज़िंदगी का मज़ा हम से पूछिए

भूले हैं रफ़्ता रफ़्ता उन्हें मुद्दतों में हम
क़िस्तों में ख़ुदकुशी का मज़ा हम से पूछिए

आग़ाज़-ए-आशिक़ी का मज़ा आप जानिए
अंजाम-ए-आशिक़ी का मज़ा हम से पूछिए

जलते दियों में जलते घरों जैसी ज़ौ कहाँ
सरकार रौशनी का मज़ा हम से पूछिए

वो जान ही गए कि हमें उनसे प्यार है
आँखों की मुख़बिरी का मज़ा हमसे पूछिए

हँसने का शौक़ हमको भी था आप की तरह
हँसिए मगर हँसी का मज़ा हम से पूछिए

हम तौबा कर के मर गए बे-मौत ऐ 'ख़ुमार'
तौहीन-ए-मय-कशी का मज़ा हम से पूछिए

- Khumar Barabankvi
55 Likes

Narazgi Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Khumar Barabankvi

As you were reading Shayari by Khumar Barabankvi

Similar Writers

our suggestion based on Khumar Barabankvi

Similar Moods

As you were reading Narazgi Shayari Shayari