pee pee ke jagmagaae zamaane guzar gaye | पी पी के जगमगाए ज़माने गुज़र गए - Khumar Barabankvi

pee pee ke jagmagaae zamaane guzar gaye
raaton ko din banaaye zamaane guzar gaye

jaan-e-bahaar phool nahin aadmi hoon main
aa ja ki muskuraaye zamaane guzar gaye

kya laik-e-sitam bhi nahin ab main dosto
patthar bhi ghar mein aaye zamaane guzar gaye

o jaane waale aa ki tire intizaar mein
raaste ko ghar banaaye zamaane guzar gaye

gham hai na ab khushi hai na ummeed hai na yaas
sab se najaat paaye zamaane guzar gaye

marne se vo darein jo ba-qaid-e-hayaat hain
mujh ko to maut aaye zamaane guzar gaye

kya kya tavakkuat theen aahon se ai khumaar
ye teer bhi chalaae zamaane guzar gaye

पी पी के जगमगाए ज़माने गुज़र गए
रातों को दिन बनाए ज़माने गुज़र गए

जान-ए-बहार फूल नहीं आदमी हूँ मैं
आ जा कि मुस्कुराए ज़माने गुज़र गए

क्या लाइक़-ए-सितम भी नहीं अब मैं दोस्तो
पत्थर भी घर में आए ज़माने गुज़र गए

ओ जाने वाले आ कि तिरे इंतिज़ार में
रस्ते को घर बनाए ज़माने गुज़र गए

ग़म है न अब ख़ुशी है न उम्मीद है न यास
सब से नजात पाए ज़माने गुज़र गए

मरने से वो डरें जो ब-क़ैद-ए-हयात हैं
मुझ को तो मौत आए ज़माने गुज़र गए

क्या क्या तवक़्क़ुआत थीं आहों से ऐ 'ख़ुमार'
ये तीर भी चलाए ज़माने गुज़र गए

- Khumar Barabankvi
5 Likes

Nasha Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Khumar Barabankvi

As you were reading Shayari by Khumar Barabankvi

Similar Writers

our suggestion based on Khumar Barabankvi

Similar Moods

As you were reading Nasha Shayari Shayari