boo-e-gul soongh kar bigadte hain | बू-ए-गुल सूँघ कर बिगड़ते हैं - Lala Madhav Ram Jauhar

boo-e-gul soongh kar bigadte hain
ye pari-roo hawa se ladte hain

kyun jawaani ke peeche padte hain
bhaagte ko nahin pakadte hain

ek din vo zameen dekhenge
ai falak aaj ko akadte hain

mal rahe hain vo apne ghar mehndi
ham yahan ediyaan ragadte hain

nama-bar na-umeed aata hai
haaye kya sust paanv padte hain

jis ke hain us ke hain ham ai jauhar
yaar ban kar kahi bigadte hain

बू-ए-गुल सूँघ कर बिगड़ते हैं
ये परी-रू हवा से लड़ते हैं

क्यूँ जवानी के पीछे पड़ते हैं
भागते को नहीं पकड़ते हैं

एक दिन वो ज़मीन देखेंगे
ऐ फ़लक आज को अकड़ते हैं

मल रहे हैं वो अपने घर मेहंदी
हम यहाँ एड़ियाँ रगड़ते हैं

नामा-बर ना-उमीद आता है
हाए क्या सुस्त पाँव पड़ते हैं

जिस के हैं उस के हैं हम ऐ जौहर
यार बन कर कहीं बिगड़ते हैं

- Lala Madhav Ram Jauhar
0 Likes

Environment Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Lala Madhav Ram Jauhar

As you were reading Shayari by Lala Madhav Ram Jauhar

Similar Writers

our suggestion based on Lala Madhav Ram Jauhar

Similar Moods

As you were reading Environment Shayari Shayari