kuch aisa to abhi socha nahin hai | कुछ ऐसा तो अभी सोचा नहीं है - Majid Ali Kavish

kuch aisa to abhi socha nahin hai
ki jo mera hai vo us ka nahin hai

muravvat se zara dhundli hain aankhen
ye mat samjho nazar aata nahin hai

abhi kal hi to kuch vaade kiye the
tumhaara hafiza achha nahin hai

yahi to jad hai saari nafratoin ki
mohabbat ko koi samjha nahin hai

tum aurat ho zara mohtaath rahna
zamaana is qadar badla nahin hai

hamaare munh pe hum se jhooth bole
hamaara aaina aisa nahin hai

कुछ ऐसा तो अभी सोचा नहीं है
कि जो मेरा है वो उस का नहीं है

मुरव्वत से ज़रा धुंदली हैं आंखें
ये मत समझो नज़र आता नहीं है

अभी कल ही तो कुछ वादे किए थे
तुम्हारा हाफ़िज़ा अच्छा नहीं है

यही तो जड़ है सारी नफ़रतों की
मोहब्बत को कोई समझा नहीं है

तुम औरत हो ज़रा मोहतात रहना
ज़माना इस क़दर बदला नहीं है

हमारे मुंह पे हम से झूट बोले
हमारा आइना ऐसा नहीं है

- Majid Ali Kavish
0 Likes

Aaina Shayari

Our suggestion based on your choice

Similar Writers

our suggestion based on Majid Ali Kavish

Similar Moods

As you were reading Aaina Shayari Shayari