hum hain mata-e-koocha-o-bazaar ki tarah | हम हैं मता-ए-कूचा-ओ-बाज़ार की तरह - Majrooh Sultanpuri

hum hain mata-e-koocha-o-bazaar ki tarah
uthati hai har nigaah khareedaar ki tarah

is koo-e-tishnagi mein bahut hai ki ek jaam
haath aa gaya hai daulat-e-bedaar ki tarah

vo to kahi hai aur magar dil ke aas-paas
phirti hai koi shay nigah-e-yaar ki tarah

seedhi hai raah-e-shauq pe yoonhi kahi kahi
kham ho gai hai gesoo-e-dildaar ki tarah

be-tesha-e-nazar na chalo raah-e-raftagaan
har naqsh-e-paa buland hai deewaar ki tarah

ab ja ke kuch khula hunar-e-naakhun-e-junoon
zakham-e-jigar hue lab-o-rukhsaar ki tarah

majrooh likh rahe hain vo ahl-e-wafa ka naam
hum bhi khade hue hain gunahgaar ki tarah

हम हैं मता-ए-कूचा-ओ-बाज़ार की तरह
उठती है हर निगाह ख़रीदार की तरह

इस कू-ए-तिश्नगी में बहुत है कि एक जाम
हाथ आ गया है दौलत-ए-बेदार की तरह

वो तो कहीं है और मगर दिल के आस-पास
फिरती है कोई शय निगह-ए-यार की तरह

सीधी है राह-ए-शौक़ पे यूँही कहीं कहीं
ख़म हो गई है गेसू-ए-दिलदार की तरह

बे-तेशा-ए-नज़र न चलो राह-ए-रफ़्तगाँ
हर नक़्श-ए-पा बुलंद है दीवार की तरह

अब जा के कुछ खुला हुनर-ए-नाख़ून-ए-जुनूँ
ज़ख़्म-ए-जिगर हुए लब-ओ-रुख़्सार की तरह

'मजरूह' लिख रहे हैं वो अहल-ए-वफ़ा का नाम
हम भी खड़े हुए हैं गुनहगार की तरह

- Majrooh Sultanpuri
0 Likes

Ishq Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Majrooh Sultanpuri

As you were reading Shayari by Majrooh Sultanpuri

Similar Writers

our suggestion based on Majrooh Sultanpuri

Similar Moods

As you were reading Ishq Shayari Shayari