ishq hamaare khayal pada hai khwaab gai aaraam gaya | इश्क़ हमारे ख़याल पड़ा है ख़्वाब गई आराम गया - Meer Taqi Meer

ishq hamaare khayal pada hai khwaab gai aaraam gaya
jee ka jaana thehar raha hai subh gaya ya shaam gaya

ishq kiya so deen gaya eimaan gaya islaam gaya
dil ne aisa kaam kiya kuchh jis se main naakaam gaya

kis kis apni kal ko rove hijraan mein bekal us ka
khwaab gai hai taab gai hai chain gaya aaraam gaya

aaya yaa se jaana hi to jee ka chhupaana kya haasil
aaj gaya ya kal jaavega subh gaya ya shaam gaya

haaye jawaani kya kya kahiye shor saroon mein rakhte the
ab kya hai vo ahad gaya vo mausam vo hangaam gaya

gaali jhidki khushm-o-khushoonat ye to sar-e-dast akshar hain
lutf gaya ehsaan gaya ina'am gaya ikraam gaya

likhna kehna tark hua tha aapas mein to muddat se
ab jo qaraar kiya hai dil se khat bhi gaya paighaam gaya

naala-e-meer savaad mein ham tak dosheen shab se nahin aaya
shaayad shehar se us zalim ke aashiq vo badnaam gaya

इश्क़ हमारे ख़याल पड़ा है ख़्वाब गई आराम गया
जी का जाना ठहर रहा है सुब्ह गया या शाम गया

इश्क़ किया सो दीन गया ईमान गया इस्लाम गया
दिल ने ऐसा काम किया कुछ जिस से मैं नाकाम गया

किस किस अपनी कल को रोवे हिज्राँ में बेकल उस का
ख़्वाब गई है ताब गई है चैन गया आराम गया

आया याँ से जाना ही तो जी का छुपाना क्या हासिल
आज गया या कल जावेगा सुब्ह गया या शाम गया

हाए जवानी क्या क्या कहिए शोर सरों में रखते थे
अब क्या है वो अहद गया वो मौसम वो हंगाम गया

गाली झिड़की ख़श्म-ओ-ख़ुशूनत ये तो सर-ए-दस्त अक्सर हैं
लुत्फ़ गया एहसान गया इनआ'म गया इकराम गया

लिखना कहना तर्क हुआ था आपस में तो मुद्दत से
अब जो क़रार किया है दिल से ख़त भी गया पैग़ाम गया

नाला-ए-मीर सवाद में हम तक दोशीं शब से नहीं आया
शायद शहर से उस ज़ालिम के आशिक़ वो बदनाम गया

- Meer Taqi Meer
0 Likes

Wada Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Meer Taqi Meer

As you were reading Shayari by Meer Taqi Meer

Similar Writers

our suggestion based on Meer Taqi Meer

Similar Moods

As you were reading Wada Shayari Shayari