jab naam tira leejie tab chashm bhar aave | जब नाम तिरा लीजिए तब चश्म भर आवे - Meer Taqi Meer

jab naam tira leejie tab chashm bhar aave
is zindagi karne ko kahaan se jigar aave

talwaar ka bhi maara khuda rakhe hai zalim
ye to ho koi gor-e-ghareeban mein dar aave

may-khaana vo manzar hai ki har subh jahaan shaikh
deewaar pe khurshid ka masti se sar aave

kya jaanen ve murghaan-e-giraftar-e-chaman ko
jin tak ki b-sad-naaz naseem-e-sehr aave

tu subh qadam-ranja kare tuk to hai warna
kis vaaste aashiq ki shab-e-gham basar aave

har soo sar-e-tasleem rakhe said-e-haram hain
vo said-fagan tegh-b-kaf ta kidhar aave

deewaron se sar maarte firne ka gaya waqt
ab tu hi magar aap kabhu dar se dar aave

wa'iz nahin kaifiyyat-e-may-khaana se aagaah
yak jura badal warna ye mindil dhar aave

sannaa hain sab khwaar azaan jumla hoon main bhi
hai aib bada us mein jise kuchh hunar aave

ai vo ki tu baitha hai sar-e-raah pe zinhaar
kahiyo jo kabhu meer bala-kash idhar aave

mat dast-e-mohabbat mein qadam rakh ki khizr ko
har gaam pe is rah mein safar se hazar aave

जब नाम तिरा लीजिए तब चश्म भर आवे
इस ज़िंदगी करने को कहाँ से जिगर आवे

तलवार का भी मारा ख़ुदा रक्खे है ज़ालिम
ये तो हो कोई गोर-ए-ग़रीबाँ में दर आवे

मय-ख़ाना वो मंज़र है कि हर सुब्ह जहाँ शैख़
दीवार पे ख़ुर्शीद का मस्ती से सर आवे

क्या जानें वे मुर्ग़ान-ए-गिरफ़्तार-ए-चमन को
जिन तक कि ब-सद-नाज़ नसीम-ए-सहर आवे

तू सुब्ह क़दम-रंजा करे टुक तो है वर्ना
किस वास्ते आशिक़ की शब-ए-ग़म बसर आवे

हर सू सर-ए-तस्लीम रखे सैद-ए-हरम हैं
वो सैद-फ़गन तेग़-ब-कफ़ ता किधर आवे

दीवारों से सर मारते फिरने का गया वक़्त
अब तू ही मगर आप कभू दर से दर आवे

वाइ'ज़ नहीं कैफ़िय्यत-ए-मय-ख़ाना से आगाह
यक जुरआ बदल वर्ना ये मिंदील धर आवे

सन्नाअ हैं सब ख़्वार अज़ाँ जुमला हूँ मैं भी
है ऐब बड़ा उस में जिसे कुछ हुनर आवे

ऐ वो कि तू बैठा है सर-ए-राह पे ज़िन्हार
कहियो जो कभू 'मीर' बला-कश इधर आवे

मत दश्त-ए-मोहब्बत में क़दम रख कि ख़िज़र को
हर गाम पे इस रह में सफ़र से हज़र आवे

- Meer Taqi Meer
1 Like

Ghamand Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Meer Taqi Meer

As you were reading Shayari by Meer Taqi Meer

Similar Writers

our suggestion based on Meer Taqi Meer

Similar Moods

As you were reading Ghamand Shayari Shayari