taqat nahin hai dil main ne jee baja raha hai | ताक़त नहीं है दिल मैं ने जी बजा रहा है - Meer Taqi Meer

taqat nahin hai dil main ne jee baja raha hai
kya naaz kar rahe ho ab ham mein kya raha hai

jeb aur aasteen se rone ka kaam guzra
saara nichod ab to daaman par aa raha hai

ab chait gar nahin kuchh taaza hua hoon bekal
aaya hoon jab b-khud mein jee is mein ja raha hai

kahe ka paas ab to ruswaai door pahunchee
raaz-e-mohabbat apna kis se chhapa raha hai

gard-e-rah us ki yaarab kis aur se uthegi
sau sau ghazaal har-soo aankhen laga raha hai

bande to tarhdaar vheen tarah kash tumhaare
phir chahte ho kya tum ab ik khuda raha hai

dekh us dehan ko har-dam ai aarsi ki yun hi
khoobi ka dar kaso ke munh par bhi vaa raha hai

ve lutf ki nigaahen pehle fareb hain sab
kis se vo be-muravvat phir aashna raha hai

itna khizaan kare hai kab zard rang par yaa
tu bhi kaso nigaah se ai gul juda raha hai

rahte hain daagh akshar naan-o-namak ki khaatir
jeene ka us samayaan mein ab kya maza raha hai

ab chahta nahin hai bosa jo tere lab se
jeene se meer shaayad kuchh dil utha raha hai

ताक़त नहीं है दिल मैं ने जी बजा रहा है
क्या नाज़ कर रहे हो अब हम में क्या रहा है

जेब और आस्तीं से रोने का काम गुज़रा
सारा निचोड़ अब तो दामन पर आ रहा है

अब चैत गर नहीं कुछ ताज़ा हुआ हूँ बेकल
आया हूँ जब ब-ख़ुद में जी इस में जा रहा है

काहे का पास अब तो रुस्वाई दूर पहुँची
राज़-ए-मोहब्बत अपना किस से छपा रहा है

गर्द-ए-रह उस की यारब किस और से उठेगी
सौ सौ ग़ज़ाल हर-सू आँखें लगा रहा है

बंदे तो तरहदार व्हीं तरह कश तुम्हारे
फिर चाहते हो क्या तुम अब इक ख़ुदा रहा है

देख उस दहन को हर-दम ऐ आरसी कि यूँ ही
ख़ूबी का दर कसो के मुँह पर भी वा रहा है

वे लुत्फ़ की निगाहें पहले फ़रेब हैं सब
किस से वो बे-मुरव्वत फिर आश्ना रहा है

इतना ख़िज़ाँ करे है कब ज़र्द रंग पर याँ
तू भी कसो निगह से ऐ गुल जुदा रहा है

रहते हैं दाग़ अक्सर नान-ओ-नमक की ख़ातिर
जीने का उस समयँ में अब क्या मज़ा रहा है

अब चाहता नहीं है बोसा जो तेरे लब से
जीने से 'मीर' शायद कुछ दिल उठा रहा है

- Meer Taqi Meer
0 Likes

Friendship Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Meer Taqi Meer

As you were reading Shayari by Meer Taqi Meer

Similar Writers

our suggestion based on Meer Taqi Meer

Similar Moods

As you were reading Friendship Shayari Shayari