naqsh baithe hai kahaan khwahish-e-aazaadi ka | नक़्श बैठे है कहाँ ख़्वाहिश-ए-आज़ादी का - Meer Taqi Meer

naqsh baithe hai kahaan khwahish-e-aazaadi ka
nang hai naam rihaai tiri sayyaadi ka

daad de warna abhi jaan pe kheloon hoon main
dil jalana nahin dekha kisi fariyaadi ka

tu ne talwaar rakhi sar rakha mein banda hoon
apni tasleem ka bhi aur tiri jallaadi ka

shehar ki si rahi raunaq usi ke jeete-ji
mar gaya qais jo tha khaana khuda waadi ka

shaikh kya sooraten rahti theen bhala jab tha dair
roo-b-veeraani ho is ka'be ki aabaadi ka

rekhta rutbe ko pahunchaaya hua us ka hai
mo'taqid kaun nahin meer ki ustaadi ka

नक़्श बैठे है कहाँ ख़्वाहिश-ए-आज़ादी का
नंग है नाम रिहाई तिरी सय्यादी का

दाद दे वर्ना अभी जान पे खेलूँ हूँ मैं
दिल जलाना नहीं देखा किसी फ़रियादी का

तू ने तलवार रखी सर रखा में बंदा हूँ
अपनी तस्लीम का भी और तिरी जल्लादी का

शहर की सी रही रौनक़ उसी के जीते-जी
मर गया क़ैस जो था ख़ाना ख़ुदा वादी का

शैख़ क्या सूरतें रहती थीं भला जब था दैर
रू-ब-वीरानी हो इस का'बे की आबादी का

रेख़्ता रुत्बे को पहुँचाया हुआ उस का है
मो'तक़िद कौन नहीं 'मीर' की उस्तादी का

- Meer Taqi Meer
0 Likes

Jashn Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Meer Taqi Meer

As you were reading Shayari by Meer Taqi Meer

Similar Writers

our suggestion based on Meer Taqi Meer

Similar Moods

As you were reading Jashn Shayari Shayari