rahe khayal tanik ham bhi roo-siyaahon ka | रहे ख़याल तनिक हम भी रू-सियाहों का - Meer Taqi Meer

rahe khayal tanik ham bhi roo-siyaahon ka
lage ho khoon bahut karne be-gunaahon ka

nahin sitaare ye sooraakh pad gaye hain tamaam
falak hareef hua tha hamaari aahon ka

gali mein us ki fate kapdon par mere mat ja
libaas-e-faqr hai waan fakhr baadshaahon ka

tamaam zulf ke kooche hain maar-e-pech us ki
tujhi ko aave dila chalna aisi raahon ka

usi jo khoobi se laaye tujhe qayamat mein
to harf-e-kun ne kiya gosh daad-khwaaho ka

tamaam-umr rahein khaak zer-e-paa us ki
jo zor kuchh chale ham izz dast-gaahon ka

kahaan se tah karein paida ye naazimaan-e-haal
ki poch-baafi hi hai kaam in julaahon ka

hisaab kahe ka roz-e-shumaar mein mujh se
shumaar hi nahin hai kuchh mere gunaahon ka

tiri jo aankhen hain talwaar ke tale bhi idhar
fareb-khurda hai tu meer kin nigaahon ka

रहे ख़याल तनिक हम भी रू-सियाहों का
लगे हो ख़ून बहुत करने बे-गुनाहों का

नहीं सितारे ये सूराख़ पड़ गए हैं तमाम
फ़लक हरीफ़ हुआ था हमारी आहों का

गली में उस की फटे कपड़ों पर मिरे मत जा
लिबास-ए-फ़क़्र है वाँ फ़ख़्र बादशाहों का

तमाम ज़ुल्फ़ के कूचे हैं मार-ए-पेच उस की
तुझी को आवे दिला चलना ऐसी राहों का

उसी जो ख़ूबी से लाए तुझे क़यामत में
तो हर्फ़-ए-कुन ने किया गोश दाद-ख़्वाहों का

तमाम-उम्र रहें ख़ाक ज़ेर-ए-पा उस की
जो ज़ोर कुछ चले हम इज्ज़ दस्त-गाहों का

कहाँ से तह करें पैदा ये नाज़िमान-ए-हाल
कि पोच-बाफ़ी ही है काम इन जुलाहों का

हिसाब काहे का रोज़-ए-शुमार में मुझ से
शुमार ही नहीं है कुछ मिरे गुनाहों का

तिरी जो आँखें हैं तलवार के तले भी इधर
फ़रेब-ख़ुर्दा है तू 'मीर' किन निगाहों का

- Meer Taqi Meer
1 Like

Tasawwur Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Meer Taqi Meer

As you were reading Shayari by Meer Taqi Meer

Similar Writers

our suggestion based on Meer Taqi Meer

Similar Moods

As you were reading Tasawwur Shayari Shayari