talwaar ghark-e-khoon hai aankhen gulaabiyaan hain | तलवार ग़र्क़-ए-ख़ूँ है आँखें गुलाबियाँ हैं - Meer Taqi Meer

talwaar ghark-e-khoon hai aankhen gulaabiyaan hain
dekhen to teri kab tak ye bad-sharabiyaan hain

jab le naqaab munh par tab deed kar ki kya kya
dar-parda shokhiyaan hain phir be-hijaabiyaan hain

chahe hai aaj hoon main haft-aasmaan ke oopar
dil ke mizaaj mein bhi kitni shitaabiyaan hain

jee bikhre dil dhhe hai sar bhi gira pade hai
khaana-kharaab tujh bin kya kya kharaabiyaan hain

mehmaan meer mat ho khwaan-e-falak pe hargiz
khaali ye mehr-o-mah ki dono rikaabiyaan hain

तलवार ग़र्क़-ए-ख़ूँ है आँखें गुलाबियाँ हैं
देखें तो तेरी कब तक ये बद-शराबियाँ हैं

जब ले नक़ाब मुँह पर तब दीद कर कि क्या क्या
दर-पर्दा शोख़ियाँ हैं फिर बे-हिजाबियाँ हैं

चाहे है आज हूँ मैं हफ़्त-आसमाँ के ऊपर
दिल के मिज़ाज में भी कितनी शिताबियाँ हैं

जी बिखरे दिल ढहे है सर भी गिरा पड़े है
ख़ाना-ख़राब तुझ बिन क्या क्या ख़राबियाँ हैं

मेहमान 'मीर' मत हो ख़्वान-ए-फ़लक पे हरगिज़
ख़ाली ये मेहर-ओ-मह की दोनों रिकाबियाँ हैं

- Meer Taqi Meer
0 Likes

Dil Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Meer Taqi Meer

As you were reading Shayari by Meer Taqi Meer

Similar Writers

our suggestion based on Meer Taqi Meer

Similar Moods

As you were reading Dil Shayari Shayari