ye tark ho ke khashin kaj agar kulaah karein | ये तर्क हो के ख़शिन कज अगर कुलाह करें - Meer Taqi Meer

ye tark ho ke khashin kaj agar kulaah karein
to bul-hawas na kabhu chashm ko siyaah karein

tumhein bhi chahiye hai kuchh to paas chaahat ka
ham apni aur se yun kab talak nibaah karein

rakha hai apne tai rok rok kar warna
siyaah kar den zamaane ko ham jo aah karein

jo us ki aur ko jaana mile to ham bhi zaif
hazaar sajde har ik gaam sarbaraah karein

hawaa-e-may-kada ye hai to faut-e-waqt hai zulm
namaaz chhod den ab koi din gunaah karein

hamesha kaun takalluf hai khoob-ruyon ka
guzaar naaz se idhar bhi gaah gaah karein

agar uthenge isee haal se to kahiyo tu
jo roz-e-hashr tujhi ko na uzr-khwaah karein

buri bala hain sitam-kushta-e-mohabbat ham
jo teg barase to sar ko na kuchh panaah karein

agarche sahal hain par deedaani hain ham bhi meer
udhar ko yaar taammul se gar nigaah karein

ये तर्क हो के ख़शिन कज अगर कुलाह करें
तो बुल-हवस न कभू चश्म को सियाह करें

तुम्हें भी चाहिए है कुछ तो पास चाहत का
हम अपनी और से यूँ कब तलक निबाह करें

रखा है अपने तईं रोक रोक कर वर्ना
सियाह कर दें ज़माने को हम जो आह करें

जो उस की और को जाना मिले तो हम भी ज़ईफ़
हज़ार सज्दे हर इक गाम सरबराह करें

हवा-ए-मय-कदा ये है तो फ़ौत-ए-वक़्त है ज़ुल्म
नमाज़ छोड़ दें अब कोई दिन गुनाह करें

हमेशा कौन तकल्लुफ़ है ख़ूब-रूयों का
गुज़ार नाज़ से ईधर भी गाह गाह करें

अगर उठेंगे इसी हाल से तो कहियो तू
जो रोज़-ए-हश्र तुझी को न उज़्र-ख़्वाह करें

बुरी बला हैं सितम-कुश्ता-ए-मोहब्बत हम
जो तेग़ बरसे तो सर को न कुछ पनाह करें

अगरचे सहल हैं पर दीदनी हैं हम भी 'मीर'
उधर को यार तअम्मुल से गर निगाह करें

- Meer Taqi Meer
1 Like

Crime Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Meer Taqi Meer

As you were reading Shayari by Meer Taqi Meer

Similar Writers

our suggestion based on Meer Taqi Meer

Similar Moods

As you were reading Crime Shayari Shayari