khoveñ hain neend meri museebat bayaaniyaan | खोवें हैं नींद मेरी मुसीबत बयानीयाँ - Meer Taqi Meer

khoveñ hain neend meri museebat bayaaniyaan
tum bhi to ek raat suno ye kahaaniyaan

kya aag de ke taur ko ki tark sar-kashi
us sholay ki wahi hain sharaarat ki baaniyaaṅ

sohbat rakha kiya vo safiya-o-zalaal se
dil hi mein khun hua keen meri nukta-daaniyaan

ham se to keene hi ki adaayein chali gaeein
be-lutfiyaan yahi yahi na-mehrabaaniyaan

talwaar ke tale hi gaya ahad-e-imbisaat
mar mar ke ham ne kaatee hain apni javaaniyaan

gaali sivaae mujh se sukhun mat kiya karo
achhi lage hain mujh ko tiri bad-zabaaniyaan

ghairoon hi ke sukhun ki taraf gosh-e-yaar the
is harf-e-na-shino ne hamaari na maaniyaan

ye be-qaraariyaan na kabhu in nay-dekhiyaan
jaan-kaahiyaan hamaari bahut sahal jaaniyaan

maara mujhe bhi saan ke ghairoon mein un ne meer
kya khaak mein milaaiin meri jaan-fishaaniyaan

खोवें हैं नींद मेरी मुसीबत बयानीयाँ
तुम भी तो एक रात सुनो ये कहानियाँ

क्या आग दे के तौर को की तर्क सर-कशी
उस शो'ले की वही हैं शरारत की बानीयाँ

सोहबत रखा किया वो सफिया-ओ-ज़लाल से
दिल ही में ख़ूँ हुआ कीं मिरी नुक्ता-दानियाँ

हम से तो कीने ही की अदाएँ चली गईं
बे-लुत्फ़ियाँ यही यही ना-मेहरबानियाँ

तलवार के तले ही गया अहद-ए-इम्बिसात
मर मर के हम ने काटी हैं अपनी जवानियाँ

गाली सिवाए मुझ से सुख़न मत किया करो
अच्छी लगे हैं मुझ को तिरी बद-ज़बानियाँ

ग़ैरों ही के सुख़न की तरफ़ गोश-ए-यार थे
इस हर्फ़-ए-ना-शिनो ने हमारी न मानियां

ये बे-क़रारियाँ न कभू इन नय-देखीयाँ
जाँ-काहीयाँ हमारी बहुत सहल जानियाँ

मारा मुझे भी सान के ग़ैरों में उन ने 'मीर'
क्या ख़ाक में मिलाईं मिरी जाँ-फ़िशानीयाँ

- Meer Taqi Meer
1 Like

Aag Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Meer Taqi Meer

As you were reading Shayari by Meer Taqi Meer

Similar Writers

our suggestion based on Meer Taqi Meer

Similar Moods

As you were reading Aag Shayari Shayari