fariyaad ki koi lay nahin hai | फ़रियाद की कोई लय नहीं है - Mirza Ghalib

fariyaad ki koi lay nahin hai
naala paaband-e-nay nahin hai

kyun bote hain baagbaan tombe
gar baagh gadaa-e-may nahin hai

har-chand har ek shay mein tu hai
par tujh si koi shay nahin hai

haan khaaiyo mat fareb-e-hasti
har-chand kahein ki hai nahin hai

shaadi se guzar ki gham na hove
urdi jo na ho to day nahin hai

kyun radd-e-qadah kare hai zaahid
may hai ye magas ki qay nahin hai

hasti hai na kuchh adam hai ghalib
aakhir tu kya hai ai nahin hai

फ़रियाद की कोई लय नहीं है
नाला पाबंद-ए-नय नहीं है

क्यूँ बोते हैं बाग़बाँ तोंबे
गर बाग़ गदा-ए-मय नहीं है

हर-चंद हर एक शय में तू है
पर तुझ सी कोई शय नहीं है

हाँ खाइयो मत फ़रेब-ए-हस्ती
हर-चंद कहें कि है नहीं है

शादी से गुज़र कि ग़म न होवे
उरदी जो न हो तो दय नहीं है

क्यूँ रद्द-ए-क़दह करे है ज़ाहिद
मय है ये मगस की क़य नहीं है

हस्ती है न कुछ अदम है 'ग़ालिब'
आख़िर तू क्या है ऐ नहीं है

- Mirza Ghalib
0 Likes

Anjam Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Mirza Ghalib

As you were reading Shayari by Mirza Ghalib

Similar Writers

our suggestion based on Mirza Ghalib

Similar Moods

As you were reading Anjam Shayari Shayari