gham-e-duniya se gar paai bhi furqat sar uthaane ki | ग़म-ए-दुनिया से गर पाई भी फ़ुर्सत सर उठाने की - Mirza Ghalib

gham-e-duniya se gar paai bhi furqat sar uthaane ki
falak ka dekhna taqreeb tere yaad aane ki

khulega kis tarah mazmoon mere maktub ka ya-rab
qasam khaai hai us kaafir ne kaaghaz ke jalane ki

liptna parniyaa mein shola-e-aatish ka pinhaan hai
wale mushkil hai hikmat dil mein soz-e-gham chhupaane ki

unhen manzoor apne zakhmiyon ka dekh aana tha
uthe the sair-e-gul ko dekhna shokhi bahaane ki

hamaari saadgi thi iltefaat-e-naaz par marna
tira aana na tha zalim magar tamheed jaane ki

lakad koob-e-hawaadis ka tahammul kar nahin sakti
meri taqat ki zaamin thi buton ki naaz uthaane ki

kahoon kya khoobi-e-auzaa-e-abnaa-e-zamaan ghalib
badi ki us ne jis se ham ne ki thi baar-ha neki

ग़म-ए-दुनिया से गर पाई भी फ़ुर्सत सर उठाने की
फ़लक का देखना तक़रीब तेरे याद आने की

खुलेगा किस तरह मज़मूँ मिरे मक्तूब का या-रब
क़सम खाई है उस काफ़िर ने काग़ज़ के जलाने की

लिपटना पर्नियाँ में शोला-ए-आतिश का पिन्हाँ है
वले मुश्किल है हिकमत दिल में सोज़-ए-ग़म छुपाने की

उन्हें मंज़ूर अपने ज़ख़्मियों का देख आना था
उठे थे सैर-ए-गुल को देखना शोख़ी बहाने की

हमारी सादगी थी इल्तिफ़ात-ए-नाज़ पर मरना
तिरा आना न था ज़ालिम मगर तम्हीद जाने की

लकद कूब-ए-हवादिस का तहम्मुल कर नहीं सकती
मिरी ताक़त कि ज़ामिन थी बुतों की नाज़ उठाने की

कहूँ क्या ख़ूबी-ए-औज़ा-ए-अब्ना-ए-ज़माँ 'ग़ालिब'
बदी की उस ने जिस से हम ने की थी बार-हा नेकी

- Mirza Ghalib
1 Like

Nazakat Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Mirza Ghalib

As you were reading Shayari by Mirza Ghalib

Similar Writers

our suggestion based on Mirza Ghalib

Similar Moods

As you were reading Nazakat Shayari Shayari