hai bas-ki har ik un ke ishaare mein nishaan aur | है बस-कि हर इक उन के इशारे में निशाँ और - Mirza Ghalib

hai bas-ki har ik un ke ishaare mein nishaan aur
karte hain mohabbat to guzarta hai gumaan aur

ya-rab vo na samjhe hain na samjhenge meri baat
de aur dil un ko jo na de mujh ko zabaan aur

abroo se hai kya us nigah-e-naaz ko paivand
hai teer mukarrar magar is ki hai kamaan aur

tum shehar mein ho to hamein kya gham jab uthenge
le aayenge bazaar se ja kar dil o jaan aur

har chand subuk-dast hue but-shikni mein
ham hain to abhi raah mein hai sang-e-giraan aur

hai khoon-e-jigar josh mein dil khol ke rota
hote jo kai deeda-e-khoonaaba-fishaan aur

marta hoon is awaaz pe har chand sar ud jaaye
jallaad ko lekin vo kahe jaayen ki haan aur

logon ko hai khurshid-e-jahaan-taab ka dhoka
har roz dikhaata hoon main ik daagh-e-nihaan aur

leta na agar dil tumhein deta koi dam chain
karta jo na marta koi din aah-o-fughaan aur

paate nahin jab raah to chadh jaate hain naale
rukti hai meri taba to hoti hai ravaan aur

hain aur bhi duniya mein suhan-var bahut achhe
kahte hain ki ghalib ka hai andaaz-e-bayaan aur

है बस-कि हर इक उन के इशारे में निशाँ और
करते हैं मोहब्बत तो गुज़रता है गुमाँ और

या-रब वो न समझे हैं न समझेंगे मिरी बात
दे और दिल उन को जो न दे मुझ को ज़बाँ और

अबरू से है क्या उस निगह-ए-नाज़ को पैवंद
है तीर मुक़र्रर मगर इस की है कमाँ और

तुम शहर में हो तो हमें क्या ग़म जब उठेंगे
ले आएँगे बाज़ार से जा कर दिल ओ जाँ और

हर चंद सुबुक-दस्त हुए बुत-शिकनी में
हम हैं तो अभी राह में है संग-ए-गिराँ और

है ख़ून-ए-जिगर जोश में दिल खोल के रोता
होते जो कई दीदा-ए-ख़ूँनाबा-फ़िशाँ और

मरता हूँ इस आवाज़ पे हर चंद सर उड़ जाए
जल्लाद को लेकिन वो कहे जाएँ कि हाँ और

लोगों को है ख़ुर्शीद-ए-जहाँ-ताब का धोका
हर रोज़ दिखाता हूँ मैं इक दाग़-ए-निहाँ और

लेता न अगर दिल तुम्हें देता कोई दम चैन
करता जो न मरता कोई दिन आह-ओ-फ़ुग़ाँ और

पाते नहीं जब राह तो चढ़ जाते हैं नाले
रुकती है मिरी तब्अ' तो होती है रवाँ और

हैं और भी दुनिया में सुख़न-वर बहुत अच्छे
कहते हैं कि 'ग़ालिब' का है अंदाज़-ए-बयाँ और

- Mirza Ghalib
1 Like

Shehar Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Mirza Ghalib

As you were reading Shayari by Mirza Ghalib

Similar Writers

our suggestion based on Mirza Ghalib

Similar Moods

As you were reading Shehar Shayari Shayari