milti hai khoo-e-yaar se naar iltihaab mein | मिलती है ख़ू-ए-यार से नार इल्तिहाब में - Mirza Ghalib

milti hai khoo-e-yaar se naar iltihaab mein
kaafir hoon gar na milti ho raahat azaab mein

kab se hoon kya bataaun jahaan-e-kharaab mein
shab-ha-e-hijr ko bhi rakhoon gar hisaab mein

ta phir na intizaar mein neend aaye umr bhar
aane ka ahad kar gaye aaye jo khwaab mein

qaasid ke aate aate khat ik aur likh rakhoon
main jaanta hoon jo vo likhenge jawaab mein

mujh tak kab un ki bazm mein aata tha daur-e-jaam
saaqi ne kuchh mila na diya ho sharaab mein

jo munkir-e-wafa ho fareb us pe kya chale
kyun bad-gumaan hoon dost se dushman ke baab mein

main muztarib hoon vasl mein khof-e-raqeeb se
daala hai tum ko vaham ne kis pech-o-taab mein

main aur hazz-e-wasl khuda-saaz baat hai
jaan nazr deni bhool gaya iztiraab mein

hai tevari chadhi hui andar naqaab ke
hai ik shikan padi hui taraf-e-naqaab mein

laakhon lagao ek churaana nigaah ka
laakhon banaav ek bigadna i'taab mein

vo naala dil mein khas ke barabar jagah na paaye
jis naala se shigaaf pade aftaab mein

vo seher muddaa-talbi mein na kaam aaye
jis seher se safeena ravaan ho saraab mein

ghalib chhuti sharaab par ab bhi kabhi kabhi
peeta hoon roz-e-abr o shab-e-mahtaab mein

मिलती है ख़ू-ए-यार से नार इल्तिहाब में
काफ़िर हूँ गर न मिलती हो राहत अज़ाब में

कब से हूँ क्या बताऊँ जहान-ए-ख़राब में
शब-हा-ए-हिज्र को भी रखूँ गर हिसाब में

ता फिर न इंतिज़ार में नींद आए उम्र भर
आने का अहद कर गए आए जो ख़्वाब में

क़ासिद के आते आते ख़त इक और लिख रखूँ
मैं जानता हूँ जो वो लिखेंगे जवाब में

मुझ तक कब उन की बज़्म में आता था दौर-ए-जाम
साक़ी ने कुछ मिला न दिया हो शराब में

जो मुनकिर-ए-वफ़ा हो फ़रेब उस पे क्या चले
क्यूँ बद-गुमाँ हूँ दोस्त से दुश्मन के बाब में

मैं मुज़्तरिब हूँ वस्ल में ख़ौफ़-ए-रक़ीब से
डाला है तुम को वहम ने किस पेच-ओ-ताब में

मैं और हज़्ज़-ए-वस्ल ख़ुदा-साज़ बात है
जाँ नज़्र देनी भूल गया इज़्तिराब में

है तेवरी चढ़ी हुई अंदर नक़ाब के
है इक शिकन पड़ी हुई तरफ़-ए-नक़ाब में

लाखों लगाओ एक चुराना निगाह का
लाखों बनाव एक बिगड़ना इ'ताब में

वो नाला दिल में ख़स के बराबर जगह न पाए
जिस नाला से शिगाफ़ पड़े आफ़्ताब में

वो सेहर मुद्दआ-तलबी में न काम आए
जिस सेहर से सफ़ीना रवाँ हो सराब में

'ग़ालिब' छुटी शराब पर अब भी कभी कभी
पीता हूँ रोज़-ए-अब्र ओ शब-ए-माहताब में

- Mirza Ghalib
0 Likes

Nafrat Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Mirza Ghalib

As you were reading Shayari by Mirza Ghalib

Similar Writers

our suggestion based on Mirza Ghalib

Similar Moods

As you were reading Nafrat Shayari Shayari