baazeecha-e-atfaal hai duniya mere aage | बाज़ीचा-ए-अतफ़ाल है दुनिया मिरे आगे - Mirza Ghalib

baazeecha-e-atfaal hai duniya mere aage
hota hai shab-o-roz tamasha mere aage

ik khel hai aurang-e-sulaimaan mere nazdeek
ik baat hai ejaz-e-masiha mere aage

juz naam nahin soorat-e-aalam mujhe manzoor
juz vaham nahin hasti-e-ashiya mere aage

hota hai nihaan gard mein sehra mere hote
ghista hai jabeen khaak pe dariya mere aage

mat pooch ki kya haal hai mera tire peeche
tu dekh ki kya rang hai tera mere aage

sach kahte ho khud-been o khud-aara hoon na kyun hoon
baitha hai but-e-aaina-seema mere aage

phir dekhiye andaaz-e-gul-afshaani-e-guftaar
rakh de koi paimaana-e-sehbaa mere aage

nafrat ka gumaan guzre hai main rashk se guzra
kyunkar kahoon lo naam na un ka mere aage

eemaan mujhe roke hai jo kheeche hai mujhe kufr
kaaba mere peeche hai kaleesa mere aage

aashiq hoon p maashooq-farebi hai mera kaam
majnoon ko bura kahti hai leila mere aage

khush hote hain par vasl mein yun mar nahin jaate
aayi shab-e-hijraan ki tamannaa mere aage

hai maujzan ik qulzum-e-khoon kaash yahi ho
aata hai abhi dekhiye kya kya mere aage

go haath ko jumbish nahin aankhon mein to dam hai
rahne do abhi saagar-o-meena mere aage

ham-peshaa o ham-mashrab o hamraaz hai mera
ghalib ko bura kyun kaho achha mere aage

बाज़ीचा-ए-अतफ़ाल है दुनिया मिरे आगे
होता है शब-ओ-रोज़ तमाशा मिरे आगे

इक खेल है औरंग-ए-सुलैमाँ मिरे नज़दीक
इक बात है एजाज़-ए-मसीहा मिरे आगे

जुज़ नाम नहीं सूरत-ए-आलम मुझे मंज़ूर
जुज़ वहम नहीं हस्ती-ए-अशिया मिरे आगे

होता है निहाँ गर्द में सहरा मिरे होते
घिसता है जबीं ख़ाक पे दरिया मिरे आगे

मत पूछ कि क्या हाल है मेरा तिरे पीछे
तू देख कि क्या रंग है तेरा मिरे आगे

सच कहते हो ख़ुद-बीन ओ ख़ुद-आरा हूँ न क्यूँ हूँ
बैठा है बुत-ए-आइना-सीमा मिरे आगे

फिर देखिए अंदाज़-ए-गुल-अफ़्शानी-ए-गुफ़्तार
रख दे कोई पैमाना-ए-सहबा मिरे आगे

नफ़रत का गुमाँ गुज़रे है मैं रश्क से गुज़रा
क्यूँकर कहूँ लो नाम न उन का मिरे आगे

ईमाँ मुझे रोके है जो खींचे है मुझे कुफ़्र
काबा मिरे पीछे है कलीसा मिरे आगे

आशिक़ हूँ प माशूक़-फ़रेबी है मिरा काम
मजनूँ को बुरा कहती है लैला मिरे आगे

ख़ुश होते हैं पर वस्ल में यूँ मर नहीं जाते
आई शब-ए-हिज्राँ की तमन्ना मिरे आगे

है मौजज़न इक क़ुल्ज़ुम-ए-ख़ूँ काश यही हो
आता है अभी देखिए क्या क्या मिरे आगे

गो हाथ को जुम्बिश नहीं आँखों में तो दम है
रहने दो अभी साग़र-ओ-मीना मिरे आगे

हम-पेशा ओ हम-मशरब ओ हमराज़ है मेरा
'ग़ालिब' को बुरा क्यूँ कहो अच्छा मिरे आगे

- Mirza Ghalib
0 Likes

Samundar Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Mirza Ghalib

As you were reading Shayari by Mirza Ghalib

Similar Writers

our suggestion based on Mirza Ghalib

Similar Moods

As you were reading Samundar Shayari Shayari