hai kis qadar halaak-e-fareb-e-wafa-e-gul | है किस क़दर हलाक-ए-फ़रेब-ए-वफ़ा-ए-गुल - Mirza Ghalib

hai kis qadar halaak-e-fareb-e-wafa-e-gul
bulbul ke kaarobaar pe hain khandah-ha-e-gul

aazaadi-e-naseem mubarak ki har taraf
toote pade hain halka-e-daam-e-hawa-e-gul

jo tha so mauj-e-rang ke dhoke mein mar gaya
ai waaye naala-e-lab-e-khoonin-nava-e-gul

khush-haal us hareef-e-siyah-mast ka ki jo
rakhta ho misl-e-saaya-e-gul sar-ba-pa-e-gul

ijaad karti hai use tere liye bahaar
mera raqeeb hai nafs-e-itr-sa-e-gul

sharminda rakhte hain mujhe baad-e-bahaar se
meena-e-be-sharaab o dil-e-be-hawa-e-gul

satvat se tere jalva-e-husn-e-ghuyoor ki
khun hai meri nigaah mein rang-e-ada-e-gul

tere hi jalwe ka hai ye dhoka ki aaj tak
be-ikhtiyaar daude hai gul dar-qafa-e-gul

ghalib mujhe hai us se hum-aagoshi aarzoo
jis ka khayal hai gul-e-jeb-e-qaba-e-gul

deewangaan ka chaara farogh-e-bahaar hai
hai shaakh-e-gul mein panja-e-khooban bajaae gul

mizgaan talak rasaai-e-lakht-e-jigar kahaan
ai waaye gar nigaah na ho aashnaa-e-gul

है किस क़दर हलाक-ए-फ़रेब-ए-वफ़ा-ए-गुल
बुलबुल के कारोबार पे हैं ख़ंदा-हा-ए-गुल

आज़ादी-ए-नसीम मुबारक कि हर तरफ़
टूटे पड़े हैं हल्क़ा-ए-दाम-ए-हवा-ए-गुल

जो था सो मौज-ए-रंग के धोके में मर गया
ऐ वाए नाला-ए-लब-ए-ख़ूनीं-नवा-ए-गुल

ख़ुश-हाल उस हरीफ़-ए-सियह-मस्त का कि जो
रखता हो मिस्ल-ए-साया-ए-गुल सर-ब-पा-ए-गुल

ईजाद करती है उसे तेरे लिए बहार
मेरा रक़ीब है नफ़स-ए-इत्र-सा-ए-गुल

शर्मिंदा रखते हैं मुझे बाद-ए-बहार से
मीना-ए-बे-शराब ओ दिल-ए-बे-हवा-ए-गुल

सतवत से तेरे जल्वा-ए-हुस्न-ए-ग़ुयूर की
ख़ूँ है मिरी निगाह में रंग-ए-अदा-ए-गुल

तेरे ही जल्वे का है ये धोका कि आज तक
बे-इख़्तियार दौड़े है गुल दर-क़फ़ा-ए-गुल

'ग़ालिब' मुझे है उस से हम-आग़ोशी आरज़ू
जिस का ख़याल है गुल-ए-जेब-ए-क़बा-ए-गुल

दीवानगाँ का चारा फ़रोग़-ए-बहार है
है शाख़-ए-गुल में पंजा-ए-ख़ूबाँ बजाए गुल

मिज़्गाँ तलक रसाई-ए-लख़्त-ए-जिगर कहाँ
ऐ वाए गर निगाह न हो आश्ना-ए-गुल

- Mirza Ghalib
0 Likes

Tamanna Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Mirza Ghalib

As you were reading Shayari by Mirza Ghalib

Similar Writers

our suggestion based on Mirza Ghalib

Similar Moods

As you were reading Tamanna Shayari Shayari