abhi to aur bhi din baarishon ke aane the | अभी तो और भी दिन बारिशों के आने थे - Mohammad Alvi

abhi to aur bhi din baarishon ke aane the
karishme saare use aaj hi dikhaane the

hikaratayn hi miliin hum ko zang-aalooda
dilon mein yun to kai qism ke khazaane the

ye dasht tel ka pyaasa na tha khuda-wanda
yahan to chaar chhe dariya humein bahaane the

kisi se koi ta'alluq raha na ho jaise
kuch is tarah se guzarte hue zamaane the

parinde door fazaaon mein kho gaye alvee
ujaad ujaad darakhton pe aashiyaane the

kisi se koi ta'alluq raha na ho jaise
kuch is tarah se guzarte hue zamaane the

parinde door fazaaon mein kho gaye alvee
ujaad ujaad darakhton pe aashiyaane the

अभी तो और भी दिन बारिशों के आने थे
करिश्मे सारे उसे आज ही दिखाने थे

हिक़ारतें ही मिलीं हम को ज़ंग-आलूदा
दिलों में यूँ तो कई क़िस्म के ख़ज़ाने थे

ये दश्त तेल का प्यासा न था ख़ुदा-वंदा
यहाँ तो चार छे दरिया हमें बहाने थे

किसी से कोई तअ'ल्लुक़ रहा न हो जैसे
कुछ इस तरह से गुज़रते हुए ज़माने थे

परिंदे दूर फ़ज़ाओं में खो गए 'अल्वी'
उजाड़ उजाड़ दरख़्तों पे आशियाने थे

किसी से कोई तअ'ल्लुक़ रहा न हो जैसे
कुछ इस तरह से गुज़रते हुए ज़माने थे

परिंदे दूर फ़ज़ाओं में खो गए 'अल्वी'
उजाड़ उजाड़ दरख़्तों पे आशियाने थे

- Mohammad Alvi
0 Likes

Nadii Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Mohammad Alvi

As you were reading Shayari by Mohammad Alvi

Similar Writers

our suggestion based on Mohammad Alvi

Similar Moods

As you were reading Nadii Shayari Shayari