aap ki aankh se gahra hai meri rooh ka zakham | आप की आँख से गहरा है मिरी रूह का ज़ख़्म - Mohsin Naqvi

aap ki aankh se gahra hai meri rooh ka zakham
aap kya soch sakenge meri tanhaai ko

main to dam tod raha tha magar afsurda hayaat
khud chali aayi meri hausla-afzaai ko

lazzat-e-gham ke siva teri nigaahon ke baghair
kaun samjha hai mere zakham ki gehraai ko

main badhaaunga tiri shohrat-e-khushbu ka nikhaar
tu dua de mere afsaana-e-ruswaai ko

vo to yun kahiye ki ik qaus-e-quzah phail gai
warna main bhool gaya tha tiri angadaai ko

आप की आँख से गहरा है मिरी रूह का ज़ख़्म
आप क्या सोच सकेंगे मिरी तन्हाई को

मैं तो दम तोड़ रहा था मगर अफ़्सुर्दा हयात
ख़ुद चली आई मिरी हौसला-अफ़ज़ाई को

लज़्ज़त-ए-ग़म के सिवा तेरी निगाहों के बग़ैर
कौन समझा है मिरे ज़ख़्म की गहराई को

मैं बढ़ाऊँगा तिरी शोहरत-ए-ख़ुश्बू का निखार
तू दुआ दे मिरे अफ़्साना-ए-रुसवाई को

वो तो यूँ कहिए कि इक क़ौस-ए-क़ुज़ह फैल गई
वर्ना मैं भूल गया था तिरी अंगड़ाई को

- Mohsin Naqvi
0 Likes

Nigaah Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Mohsin Naqvi

As you were reading Shayari by Mohsin Naqvi

Similar Writers

our suggestion based on Mohsin Naqvi

Similar Moods

As you were reading Nigaah Shayari Shayari