kathin tanhaaiyon se kaun khela main akela | कठिन तन्हाइयों से कौन खेला मैं अकेला - Mohsin Naqvi

kathin tanhaaiyon se kaun khela main akela
bhara ab bhi mere gaav ka mela main akela

bichhad kar tujh se main shab bhar na soya kaun roya
b-juz mere ye dukh bhi kis ne jhela main akela

ye be-aawaaz banjar ban ke baasi ye udaasi
ye dahshat ka safar jungle ye bela main akela

main dekhoon kab talak manzar suhaane sab purane
wahi duniya wahi dil ka jhamela main akela

vo jis ke khauf se sehra sidhaare log saare
guzarne ko hai toofaan ka vo rela main akela

कठिन तन्हाइयों से कौन खेला मैं अकेला
भरा अब भी मिरे गाँव का मेला मैं अकेला

बिछड़ कर तुझ से मैं शब भर न सोया कौन रोया
ब-जुज़ मेरे ये दुख भी किस ने झेला मैं अकेला

ये बे-आवाज़ बंजर बन के बासी ये उदासी
ये दहशत का सफ़र जंगल ये बेला मैं अकेला

मैं देखूँ कब तलक मंज़र सुहाने सब पुराने
वही दुनिया वही दिल का झमेला मैं अकेला

वो जिस के ख़ौफ़ से सहरा सिधारे लोग सारे
गुज़रने को है तूफ़ाँ का वो रेला मैं अकेला

- Mohsin Naqvi
2 Likes

Terrorism Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Mohsin Naqvi

As you were reading Shayari by Mohsin Naqvi

Similar Writers

our suggestion based on Mohsin Naqvi

Similar Moods

As you were reading Terrorism Shayari Shayari