tumhaare jism ki khushboo gulon se aati hai | तुम्हारे जिस्म की ख़ुश्बू गुलों से आती है - Munawwar Rana

tumhaare jism ki khushboo gulon se aati hai
khabar tumhaari bhi ab doosron se aati hai

humeen akela nahin jaagte hain raaton mein
use bhi neend badi mushkilon se aati hai

hamaari aankhon ko maila to kar diya hai magar
mohabbaton mein chamak aansuon se aati hai

isee liye to andhere haseen lagte hain
ki raat mil ke tire gesuon se aati hai

ye kis maqaam pe pahuncha diya mohabbat ne
ki teri yaad bhi ab koshishon se aati hai

तुम्हारे जिस्म की ख़ुश्बू गुलों से आती है
ख़बर तुम्हारी भी अब दूसरों से आती है

हमीं अकेले नहीं जागते हैं रातों में
उसे भी नींद बड़ी मुश्किलों से आती है

हमारी आँखों को मैला तो कर दिया है मगर
मोहब्बतों में चमक आँसुओं से आती है

इसी लिए तो अँधेरे हसीन लगते हैं
कि रात मिल के तिरे गेसुओं से आती है

ये किस मक़ाम पे पहुँचा दिया मोहब्बत ने
कि तेरी याद भी अब कोशिशों से आती है

- Munawwar Rana
0 Likes

Akhbaar Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Munawwar Rana

As you were reading Shayari by Munawwar Rana

Similar Writers

our suggestion based on Munawwar Rana

Similar Moods

As you were reading Akhbaar Shayari Shayari