dil ki khaatir use paane ki nahin thaani thi | दिल की ख़ातिर उसे पाने की नहीं ठानी थी - Nadir Ariz

dil ki khaatir use paane ki nahin thaani thi
vo to ik dost ne shole ko hawa de di thi

mujhko tang aake khada hona pada beech sadak
haath deta tha koi gaadi nahin rukti thi

ye dariche ke barabar ka jo manzar hai yahan
ek kyaari thi jo phoolon se bhari rahti thi

usko khone mein zamaane ne madad ki meri
gaanth aisi thi ki haathon se nahin khulti thi

usne pahchaana tha us roz mujhe sweater se
hamne ik dooje ki tasveer nahin dekhi thi

दिल की ख़ातिर उसे पाने की नहीं ठानी थी
वो तो इक दोस्त ने शोले को हवा दे दी थी

मुझको तंग आके खड़ा होना पड़ा बीच सड़क
हाथ देता था कोई गाड़ी नहीं रुकती थी

ये दरीचे के बराबर का जो मंज़र है यहाँ
एक क्यारी थी जो फूलों से भरी रहती थी

उसको खोने में ज़माने ने मदद की मेरी
गाँठ ऐसी थी कि हाथों से नहीं खुलती थी

उसने पहचाना था उस रोज़ मुझे स्वेटर से
हमने इक दूजे की तस्वीर नहीं देखी थी

- Nadir Ariz
0 Likes

Dil Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Nadir Ariz

As you were reading Shayari by Nadir Ariz

Similar Writers

our suggestion based on Nadir Ariz

Similar Moods

As you were reading Dil Shayari Shayari