hue sab ke jahaan mein ek jab apna jahaan aur ham | हुए सब के जहाँ में एक जब अपना जहाँ और हम - Nida Fazli

hue sab ke jahaan mein ek jab apna jahaan aur ham
musalsal ladte rahte hain zameen-o-aasman aur ham

kabhi aakaash ke taare zameen par bolte bhi the
kabhi aisa bhi tha jab saath theen tanhaaiyaan aur ham

sabhi ik doosre ke dukh mein sukh mein rote hanste the
kabhi the ek ghar ke chaand suraj naddiyan aur ham

mo'arrikh ki qalam ke chand lafzon si hai ye duniya
badalti hai har ik yug mein hamaari dastaan aur ham

darakhton ko haraa rakhne ke zimmedaar the dono
jo sach poocho barabar ke hain mujrim baagbaan aur ham

हुए सब के जहाँ में एक जब अपना जहाँ और हम
मुसलसल लड़ते रहते हैं ज़मीन-ओ-आसमाँ और हम

कभी आकाश के तारे ज़मीं पर बोलते भी थे
कभी ऐसा भी था जब साथ थीं तन्हाइयाँ और हम

सभी इक दूसरे के दुख में सुख में रोते हँसते थे
कभी थे एक घर के चाँद सूरज नद्दियाँ और हम

मोअर्रिख़ की क़लम के चंद लफ़्ज़ों सी है ये दुनिया
बदलती है हर इक युग में हमारी दास्ताँ और हम

दरख़्तों को हरा रखने के ज़िम्मेदार थे दोनों
जो सच पूछो बराबर के हैं मुजरिम बाग़बाँ और हम

- Nida Fazli
4 Likes

Duniya Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Nida Fazli

As you were reading Shayari by Nida Fazli

Similar Writers

our suggestion based on Nida Fazli

Similar Moods

As you were reading Duniya Shayari Shayari