kabhi kabhi yun bhi ham ne apne jee ko bahlāya hai | कभी कभी यूँ भी हम ने अपने जी को बहलाया है - Nida Fazli

kabhi kabhi yun bhi ham ne apne jee ko bahlāya hai
jin baaton ko khud nahin samjhe auron ko samjhaaya hai

ham se poocho izzat waalon ki izzat ka haal kabhi
ham ne bhi ik shehar mein rah kar thoda naam kamaaya hai

us ko bhule barson guzre lekin aaj na jaane kyun
aangan mein hanste bacchon ko be-kaaran dhamkaaya hai

us basti se chhut kar yun to har chehre ko yaad kiya
jis se thodi si an-ban thi vo akshar yaad aaya hai

koi mila to haath milaaya kahi gaye to baatein keen
ghar se baahar jab bhi nikle din bhar bojh uthaya hai

कभी कभी यूँ भी हम ने अपने जी को बहलाया है
जिन बातों को ख़ुद नहीं समझे औरों को समझाया है

हम से पूछो इज़्ज़त वालों की इज़्ज़त का हाल कभी
हम ने भी इक शहर में रह कर थोड़ा नाम कमाया है

उस को भूले बरसों गुज़रे लेकिन आज न जाने क्यूँ
आँगन में हँसते बच्चों को बे-कारन धमकाया है

उस बस्ती से छुट कर यूँ तो हर चेहरे को याद किया
जिस से थोड़ी सी अन-बन थी वो अक्सर याद आया है

कोई मिला तो हाथ मिलाया कहीं गए तो बातें कीं
घर से बाहर जब भी निकले दिन भर बोझ उठाया है

- Nida Fazli
1 Like

Ghar Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Nida Fazli

As you were reading Shayari by Nida Fazli

Similar Writers

our suggestion based on Nida Fazli

Similar Moods

As you were reading Ghar Shayari Shayari