main apne ikhtiyaar mein hoon bhi nahin bhi hoon | मैं अपने इख़्तियार में हूँ भी नहीं भी हूँ - Nida Fazli

main apne ikhtiyaar mein hoon bhi nahin bhi hoon
duniya ke kaarobaar mein hoon bhi nahin bhi hoon

teri hi justuju mein laga hai kabhi kabhi
main tere intizaar mein hoon bhi nahin bhi hoon

fihrist marne waalon ki qaateel ke paas hai
main apne hi mazaar mein hoon bhi nahin bhi hoon

auron ke saath aisa koi mas'ala nahin
ik main hi is dayaar mein hoon bhi nahin bhi hoon

mujh se hi hai har ek siyaasat ka e'tibaar
phir bhi kisi shumaar mein hoon bhi nahin bhi hoon

मैं अपने इख़्तियार में हूँ भी नहीं भी हूँ
दुनिया के कारोबार में हूँ भी नहीं भी हूँ

तेरी ही जुस्तुजू में लगा है कभी कभी
मैं तेरे इंतिज़ार में हूँ भी नहीं भी हूँ

फ़िहरिस्त मरने वालों की क़ातिल के पास है
मैं अपने ही मज़ार में हूँ भी नहीं भी हूँ

औरों के साथ ऐसा कोई मसअला नहीं
इक मैं ही इस दयार में हूँ भी नहीं भी हूँ

मुझ से ही है हर एक सियासत का ए'तिबार
फिर भी किसी शुमार में हूँ भी नहीं भी हूँ

- Nida Fazli
1 Like

Relationship Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Nida Fazli

As you were reading Shayari by Nida Fazli

Similar Writers

our suggestion based on Nida Fazli

Similar Moods

As you were reading Relationship Shayari Shayari