phir goya hui shaam parindon ki zabaani | फिर गोया हुई शाम परिंदों की ज़बानी - Nida Fazli

phir goya hui shaam parindon ki zabaani
aao sunen mitti se hi mitti ki kahaani

waqif nahin ab koi samundar ki zabaan se
sadiyon ki masafat ko sunaata to hai paani

utre koi mahtaab ki kashti ho tah-e-aab
dariya mein badalti nahin dariya ki rawaani

kehta hai koi kuchh to samajhta hai koi kuchh
lafzon se juda ho gaye lafzon ke maani

is baar to dono the nayi raahon ke raahi
kuchh door hi hamraah chalen yaadein puraani

फिर गोया हुई शाम परिंदों की ज़बानी
आओ सुनें मिट्टी से ही मिट्टी की कहानी

वाक़िफ़ नहीं अब कोई समुंदर की ज़बाँ से
सदियों की मसाफ़त को सुनाता तो है पानी

उतरे कोई महताब कि कश्ती हो तह-ए-आब
दरिया में बदलती नहीं दरिया की रवानी

कहता है कोई कुछ तो समझता है कोई कुछ
लफ़्ज़ों से जुदा हो गए लफ़्ज़ों के मआ'नी

इस बार तो दोनों थे नई राहों के राही
कुछ दूर ही हमराह चलें यादें पुरानी

- Nida Fazli
0 Likes

Urdu Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Nida Fazli

As you were reading Shayari by Nida Fazli

Similar Writers

our suggestion based on Nida Fazli

Similar Moods

As you were reading Urdu Shayari Shayari