vahshatein kaisi hain khwaabon se uljhta kya hai | वहशतें कैसी हैं ख़्वाबों से उलझता क्या है - Obaidullah Aleem

vahshatein kaisi hain khwaabon se uljhta kya hai
ek duniya hai akeli tu hi tanhaa kya hai

daad de zarf-e-sama'at to karam hai warna
tishnagi hai meri awaaz ki naghma kya hai

bolta hai koi har-aan lahu mein mere
par dikhaai nahin deta ye tamasha kya hai

jis tamannaa mein guzarti hai jawaani meri
main ne ab tak nahin jaana vo tamannaa kya hai

ye meri rooh ka ehsaas hai aankhen kya hain
ye meri zaat ka aaina hai chehra kya hai

kaash dekho kabhi toote hue aainon ko
dil shikasta ho to phir apna paraaya kya hai

zindagi ki ai kaddi dhoop bacha le mujh ko
peeche peeche ye mere maut ka saaya kya hai

वहशतें कैसी हैं ख़्वाबों से उलझता क्या है
एक दुनिया है अकेली तू ही तन्हा क्या है

दाद दे ज़र्फ़-ए-समाअत तो करम है वर्ना
तिश्नगी है मिरी आवाज़ की नग़्मा क्या है

बोलता है कोई हर-आन लहू में मेरे
पर दिखाई नहीं देता ये तमाशा क्या है

जिस तमन्ना में गुज़रती है जवानी मेरी
मैं ने अब तक नहीं जाना वो तमन्ना क्या है

ये मिरी रूह का एहसास है आँखें क्या हैं
ये मिरी ज़ात का आईना है चेहरा क्या है

काश देखो कभी टूटे हुए आईनों को
दिल शिकस्ता हो तो फिर अपना पराया क्या है

ज़िंदगी की ऐ कड़ी धूप बचा ले मुझ को
पीछे पीछे ये मिरे मौत का साया क्या है

- Obaidullah Aleem
0 Likes

Shaheed Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Obaidullah Aleem

As you were reading Shayari by Obaidullah Aleem

Similar Writers

our suggestion based on Obaidullah Aleem

Similar Moods

As you were reading Shaheed Shayari Shayari