ab kaise rafu pairaahan ho is aawaara deewane ka | अब कैसे रफ़ू पैराहन हो इस आवारा दीवाने का - Qamar Jalalvi

ab kaise rafu pairaahan ho is aawaara deewane ka
kya jaane garebaan hoga kahaan daaman se bada veeraane ka

wa'iz na sunega saaqi ki laalach hai use paimaane ka
mujh se hon agar aisi baatein main naam na luun maykhaane ka

kya jaane kahega kya aa kar hai daur yahan paimaane ka
allah kare wa'iz ko kabhi rasta na mile maykhaane ka

turbat se laga karta mahshar sunte hain koi milta hi nahin
manzil hai badi aabaadi ki rasta hai bada veeraane ka

jannat mein piyega kyunkar ai shaikh yahan gar maskh na ki
ab maane na maane teri khushi hai kaam mera samjhaane ka

jee chaaha jahaan par ro diya hai paanv mein chubhe aur toot gaye
khaaron ne bhi dil mein soch liya hai kaun yahan deewane ka

hain tang tiri may-kash saaqi ye padh ke namaaz aata hai yahin
ya shaikh ki tauba tudwa de ya waqt badal maykhaane ka

har subh ko aah sar se dil-e-shaadaab jaraahat rehta hai
gar yun hi rahegi baad-e-sehr ye phool nahin murjhaane ka

bahke hue wa'iz se mil kar kyun baithe hue ho may-khwaaro
gar tod de ye sab jaam-o-suboo kya kar loge deewane ka

ahbaab ye tum kahte ho baja vo bazm-e-aduu mein baithe hain
vo aayein na aayein un ki khushi charcha to karo mar jaane ka

us waqt khulega his ko bhi ehsaas-e-mohabbat hai ki nahin
jab sham'a sar-e-mahfil ro kar munh dekhegi parwaane ka

baadal ke andhere mein chhup kar maykhaane mein aa baitha hai
gar chaandni ho jaayegi qamar ye shaikh nahin phir jaane ka

अब कैसे रफ़ू पैराहन हो इस आवारा दीवाने का
क्या जाने गरेबाँ होगा कहाँ दामन से बड़ा वीराने का

वाइ'ज़ न सुनेगा साक़ी की लालच है उसे पैमाने का
मुझ से हों अगर ऐसी बातें मैं नाम न लूँ मयख़ाने का

क्या जाने कहेगा क्या आ कर है दौर यहाँ पैमाने का
अल्लाह करे वाइ'ज़ को कभी रस्ता न मिले मयख़ाने का

तुर्बत से लगा करता महशर सुनते हैं कोई मिलता ही नहीं
मंज़िल है बड़ी आबादी की रस्ता है बड़ा वीराने का

जन्नत में पिएगा क्यूँकर ऐ शैख़ यहाँ गर मश्क़ न की
अब माने न माने तेरी ख़ुशी है काम मिरा समझाने का

जी चाहा जहाँ पर रो दिया है पाँव में चुभे और टूट गए
ख़ारों ने भी दिल में सोच लिया है कौन यहाँ दीवाने का

हैं तंग तिरी मय-कश साक़ी ये पढ़ के नमाज़ आता है यहीं
या शैख़ की तौबा तुड़वा दे या वक़्त बदल मयख़ाने का

हर सुब्ह को आह सर से दिल-ए-शादाब जराहत रहता है
गर यूँ ही रहेगी बाद-ए-सहर ये फूल नहीं मुरझाने का

बहके हुए वाइ'ज़ से मिल कर क्यूँ बैठे हुए हो मय-ख़्वारो
गर तोड़ दे ये सब जाम-ओ-सुबू क्या कर लोगे दीवाने का

अहबाब ये तुम कहते हो बजा वो बज़्म-ए-अदू में बैठे हैं
वो आएँ न आएँ उन की ख़ुशी चर्चा तो करो मर जाने का

उस वक़्त खुलेगा हिस को भी एहसास-ए-मोहब्बत है कि नहीं
जब शम्अ' सर-ए-महफ़िल रो कर मुँह देखेगी परवाने का

बादल के अंधेरे में छुप कर मयख़ाने में आ बैठा है
गर चाँदनी हो जाएगी 'क़मर' ये शैख़ नहीं फिर जाने का

- Qamar Jalalvi
1 Like

Maikashi Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Qamar Jalalvi

As you were reading Shayari by Qamar Jalalvi

Similar Writers

our suggestion based on Qamar Jalalvi

Similar Moods

As you were reading Maikashi Shayari Shayari