unhen kyun phool dushman eed mein pahnaaye jaate hain | उन्हें क्यूँ फूल दुश्मन ईद में पहनाए जाते हैं - Qamar Jalalvi

unhen kyun phool dushman eed mein pahnaaye jaate hain
vo shaakh-e-gul ki soorat naaz se bal khaaye jaate hain

agar ham se khushi ke din bhi vo ghabraaye jaate hain
to kya ab eed milne ko farishte aaye jaate hain

vo hans kar kah rahe hain mujh se sun kar gair ke shikwe
ye kab kab ke fasaane eed mein dohraaye jaate hain

na chhed itna unhen ai waada-e-shab ki pashemaani
ki ab to eed milne par bhi vo sharmaae jaate hain

qamar afshaan chuni hai rukh pe us ne is saleeqe se
sitaare aasmaan se dekhne ko aaye jaate hain

उन्हें क्यूँ फूल दुश्मन ईद में पहनाए जाते हैं
वो शाख़-ए-गुल की सूरत नाज़ से बल खाए जाते हैं

अगर हम से ख़ुशी के दिन भी वो घबराए जाते हैं
तो क्या अब ईद मिलने को फ़रिश्ते आए जाते हैं

वो हँस कर कह रहे हैं मुझ से सुन कर ग़ैर के शिकवे
ये कब कब के फ़साने ईद में दोहराए जाते हैं

न छेड़ इतना उन्हें ऐ वादा-ए-शब की पशेमानी
कि अब तो ईद मिलने पर भी वो शरमाए जाते हैं

'क़मर' अफ़्शाँ चुनी है रुख़ पे उस ने इस सलीक़े से
सितारे आसमाँ से देखने को आए जाते हैं

- Qamar Jalalvi
0 Likes

Phool Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Qamar Jalalvi

As you were reading Shayari by Qamar Jalalvi

Similar Writers

our suggestion based on Qamar Jalalvi

Similar Moods

As you were reading Phool Shayari Shayari