sawaal chhod ki haalat ye kyun banaai hai | सवाल छोड़ कि हालत ये क्यूँ बनाई है - Qamar Jalalvi

sawaal chhod ki haalat ye kyun banaai hai
use na sun jo kahaani suni-sunaai hai

patanga sham'a pe marta hai kya buraai hai
use kisi ne bhi roka hai jis ki aayi hai

hanse hain gul na kali koi muskuraai hai
huzoor kaise ye kah doon bahaar aayi hai

zaroor koi alaamat qaza ki paai hai
mujhe azeezon ne soorat tiri dikhaai hai

na jaane hijr ki raat aur meri siyah-bakhti
kahaan kahaan ke andhere samet laai hai

lahd se kab uthe dekho musaafiraan-e-adam
safar hai door ka raaste mein neend aayi hai

aseer kya kahein sayyaad ye to samjha de
qafas mein boo-e-chaman poochne ko aayi hai

mujhe na chhed qayamat hai meri aahon mein
khuda rakhe tiri mehfil saji-sajaai hai

सवाल छोड़ कि हालत ये क्यूँ बनाई है
उसे न सुन जो कहानी सुनी-सुनाई है

पतंगा शम्अ' पे मरता है क्या बुराई है
उसे किसी ने भी रोका है जिस की आई है

हँसे हैं गुल न कली कोई मुस्कुराई है
हुज़ूर कैसे ये कह दूँ बहार आई है

ज़रूर कोई अलामत क़ज़ा की पाई है
मुझे अज़ीज़ों ने सूरत तिरी दिखाई है

न जाने हिज्र की रात और मिरी सियह-बख़्ती
कहाँ कहाँ के अँधेरे समेट लाई है

लहद से कब उठें देखो मुसाफ़िरान-ए-अदम
सफ़र है दूर का रस्ते में नींद आई है

असीर क्या कहें सय्याद ये तो समझा दे
क़फ़स में बू-ए-चमन पूछने को आई है

मुझे न छेड़ क़यामत है मेरी आहों में
ख़ुदा रखे तिरी महफ़िल सजी-सजाई है

- Qamar Jalalvi
0 Likes

Hijrat Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Qamar Jalalvi

As you were reading Shayari by Qamar Jalalvi

Similar Writers

our suggestion based on Qamar Jalalvi

Similar Moods

As you were reading Hijrat Shayari Shayari