dekha hai zindagi ko kuch itna qareeb se | देखा है ज़िंदगी को कुछ इतना क़रीब से - Sahir Ludhianvi

dekha hai zindagi ko kuch itna qareeb se
chehre tamaam lagne lage hain ajeeb se

kehne ko dil ki baat jinhen dhoondte the hum
mehfil mein aa gaye hain vo apne naseeb se

neelaam ho raha tha kisi naazneen ka pyaar
qeemat nahin chukaai gai ik gareeb se

teri wafa ki laash pe la main hi daal doon
resham ka ye kafan jo mila hai raqeeb se

देखा है ज़िंदगी को कुछ इतना क़रीब से
चेहरे तमाम लगने लगे हैं अजीब से

कहने को दिल की बात जिन्हें ढूँडते थे हम
महफ़िल में आ गए हैं वो अपने नसीब से

नीलाम हो रहा था किसी नाज़नीं का प्यार
क़ीमत नहीं चुकाई गई इक ग़रीब से

तेरी वफ़ा की लाश पे ला मैं ही डाल दूँ
रेशम का ये कफ़न जो मिला है रक़ीब से

- Sahir Ludhianvi
2 Likes

Zindagi Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Sahir Ludhianvi

As you were reading Shayari by Sahir Ludhianvi

Similar Writers

our suggestion based on Sahir Ludhianvi

Similar Moods

As you were reading Zindagi Shayari Shayari