saza ka haal sunaayein jazaa ki baat karein | सज़ा का हाल सुनाएँ जज़ा की बात करें - Sahir Ludhianvi

saza ka haal sunaayein jazaa ki baat karein
khuda mila ho jinhen vo khuda ki baat karein

unhen pata bhi chale aur vo khafa bhi na hon
is ehtiyaat se kya muddaa ki baat karein

hamaare ahad ki tahzeeb mein qaba hi nahin
agar qaba ho to band-e-qaba ki baat karein

har ek daur ka mazhab naya khuda laaya
karein to hum bhi magar kis khuda ki baat karein

wafa-shiaar kai hain koi haseen bhi to ho
chalo phir aaj usi bewafa ki baat karein

सज़ा का हाल सुनाएँ जज़ा की बात करें
ख़ुदा मिला हो जिन्हें वो ख़ुदा की बात करें

उन्हें पता भी चले और वो ख़फ़ा भी न हों
इस एहतियात से क्या मुद्दआ की बात करें

हमारे अहद की तहज़ीब में क़बा ही नहीं
अगर क़बा हो तो बंद-ए-क़बा की बात करें

हर एक दौर का मज़हब नया ख़ुदा लाया
करें तो हम भी मगर किस ख़ुदा की बात करें

वफ़ा-शिआर कई हैं कोई हसीं भी तो हो
चलो फिर आज उसी बेवफ़ा की बात करें

- Sahir Ludhianvi
5 Likes

Qaid Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Sahir Ludhianvi

As you were reading Shayari by Sahir Ludhianvi

Similar Writers

our suggestion based on Sahir Ludhianvi

Similar Moods

As you were reading Qaid Shayari Shayari