ishq mein kuchh is sabab se bhi hai aasaani mujhe | इश्क़ में कुछ इस सबब से भी है आसानी मुझे - Sarfaraz Shahid

ishq mein kuchh is sabab se bhi hai aasaani mujhe
qalb sehraai mila hai aankh baraani mujhe

mere aur mere chacha ke daur mein ye farq hai
un ko to biwi mili thi aur ustaani mujhe

ek hi misre mein das das baar dil biryaan hua
vo ghazal mein baandh kar dete hain biryaani mujhe

coca-cola kar gai mujh ko qalander ki ye baat
rail ke dabbe mein kyun milta nahin paani mujhe

zakham vo dil par lagaate hain mere aur us pe roz
apne ghar se bhej dete hain namak-daani mujhe

saare shikwe door ho jaayen jo qudrat saunp de
meri danaai tujhe aur teri nadaani mujhe

phoonk deta hoon main us par apna koi sher-e-khush
jab daraata hai koi andoh-e-pinhaani mujhe

इश्क़ में कुछ इस सबब से भी है आसानी मुझे
क़ल्ब सहराई मिला है आँख बारानी मुझे

मेरे और मेरे चचा के दौर में ये फ़र्क़ है
उन को तो बीवी मिली थी और उस्तानी मुझे

एक ही मिसरे में दस दस बार दिल बिरयाँ हुआ
वो ग़ज़ल में बाँध कर देते हैं बिरयानी मुझे

कोका-कोला कर गई मुझ को क़लंदर की ये बात
रेल के डब्बे में क्यूँ मिलता नहीं पानी मुझे

ज़ख़्म वो दिल पर लगाते हैं मिरे और उस पे रोज़
अपने घर से भेज देते हैं नमक-दानी मुझे

सारे शिकवे दूर हो जाएँ जो क़ुदरत सौंप दे
मेरी दानाई तुझे और तेरी नादानी मुझे

फूँक देता हूँ मैं उस पर अपना कोई शेर-ए-ख़ुश
जब डराता है कोई अंदोह-ए-पिन्हानी मुझे

- Sarfaraz Shahid
1 Like

Partition Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Sarfaraz Shahid

As you were reading Shayari by Sarfaraz Shahid

Similar Writers

our suggestion based on Sarfaraz Shahid

Similar Moods

As you were reading Partition Shayari Shayari