aise lage hai naukri maal-e-haraam ke baghair | ऐसे लगे है नौकरी माल-ए-हराम के बग़ैर - Sarfaraz Shahid

aise lage hai naukri maal-e-haraam ke baghair
jaise ho daagh ki ghazal baada-o-jaam ke baghair

ho na samaaj beech mein ishq ho yun speed mein
laari chale break-bin ghoda lagaam ke baghair

pyaar ki saari guftugoo ab vo kare hai phone par
aur phire hai nama-bar naam o payaam ke baghair

biwi ki ek chup se hai ghar ki fazaa bujhi bujhi
jaise koi mushaaira mere kalaam ke baghair

shaahid hamaara sher hai odhe hui shaguftagi
warna hai tegh-e-be-amaan vo bhi niyaam ke baghair

ऐसे लगे है नौकरी माल-ए-हराम के बग़ैर
जैसे हो 'दाग़' की ग़ज़ल बादा-ओ-जाम के बग़ैर

हो न समाज बीच में इश्क़ हो यूँ स्पीड में
लारी चले ब्रेक-बिन घोड़ा लगाम के बग़ैर

प्यार की सारी गुफ़्तुगू अब वो करे है फ़ोन पर
और फिरे है नामा-बर नाम ओ पयाम के बग़ैर

बीवी की एक चुप से है घर की फ़ज़ा बुझी बुझी
जैसे कोई मुशाएरा मेरे कलाम के बग़ैर

'शाहिद' हमारा शेर है ओढ़े हुई शगुफ़्तगी
वर्ना है तेग़-ए-बे-अमाँ वो भी नियाम के बग़ैर

- Sarfaraz Shahid
1 Like

Ishq Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Sarfaraz Shahid

As you were reading Shayari by Sarfaraz Shahid

Similar Writers

our suggestion based on Sarfaraz Shahid

Similar Moods

As you were reading Ishq Shayari Shayari