bichhad gaya tha koi khwaab-e-dil-nasheen mujh se | बिछड़ गया था कोई ख़्वाब-ए-दिल-नशीं मुझ से - Shahid Zaki

bichhad gaya tha koi khwaab-e-dil-nasheen mujh se
bahut dinon meri aankhen juda raheen mujh se

main saans tak nahin leta paraai khushboo mein
jhijhak rahi hai yoonhi shaakh-e-yaasmiin mujh se

mere gunaah ki mujh ko saza nahin deta
mera khuda kahi naaraz to nahin mujh se

ye shaahkaar kisi zid ka shaakhsaana hai
uljh raha tha bahut naqsh-e-avvalin mujh se

main takht par hoon magar yun to khaak-zaada hi
gurez karte hain kyun boriya-nasheen mujh se

ujad ujad ke base hain mere dar-o-deewar
bichhad bichhad ke mile hain mere makeen mujh se

bikhar rahi hai tap-e-intiqaam se meri khaak
guzar rahi hai koi mauj-e-aatishi mujh se

muhaal hai ki tamasha tamaam ho shaahid
tamaash-been se main khush tamaash-been mujh se

बिछड़ गया था कोई ख़्वाब-ए-दिल-नशीं मुझ से
बहुत दिनों मिरी आँखें जुदा रहीं मुझ से

मैं साँस तक नहीं लेता पराई ख़ुशबू में
झिझक रही है यूँही शाख़-ए-यासमीं मुझ से

मिरे गुनाह की मुझ को सज़ा नहीं देता
मिरा ख़ुदा कहीं नाराज़ तो नहीं मुझ से

ये शाहकार किसी ज़िद का शाख़साना है
उलझ रहा था बहुत नक़्श-ए-अव्वलीं मुझ से

मैं तख़्त पर हूँ मगर यूँ तो ख़ाक-ज़ादा ही
गुरेज़ करते हैं क्यूँ बोरिया-नशीं मुझ से

उजड़ उजड़ के बसे हैं मिरे दर-ओ-दीवार
बिछड़ बिछड़ के मिले हैं मिरे मकीं मुझ से

बिखर रही है तप-ए-इंतिक़ाम से मिरी ख़ाक
गुज़र रही है कोई मौज-ए-आतिशीं मुझ से

मुहाल है कि तमाशा तमाम हो 'शाहिद'
तमाश-बीन से मैं ख़ुश तमाश-बीं मुझ से

- Shahid Zaki
0 Likes

Gulshan Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Shahid Zaki

As you were reading Shayari by Shahid Zaki

Similar Writers

our suggestion based on Shahid Zaki

Similar Moods

As you were reading Gulshan Shayari Shayari