jidhar bhi dekhiye ik raasta bana hua hai | जिधर भी देखिए इक रास्ता बना हुआ है - Shahid Zaki

jidhar bhi dekhiye ik raasta bana hua hai
safar hamaare liye mas'ala bana hua hai

main sar-b-sajda sakoon mein nahin safar mein hoon
jabeen pe daagh nahin aablaa bana hua hai

main kya karoon mera gosha-nasheen hona bhi
padosiyon ke liye waqia bana hua hai

magar main ishq mein parhez se bandha hua hoon
tira vujood to khush-zaaeqaa bana hua hai

burida shaakhen hain ya sham'a-ha-e-gul-shuda hain
khameeda ped hai ya maqbara bana hua hai

mere gunah dar-o-deewar se jhalak rahe hain
makaan mere liye aaina bana hua hai

shuoori koshishein manzar bigaad deti hain
wahi bhala hai jo be-saakhta bana hua hai

kisi dua ke liye haath uthe hue shaahid
kisi diye ke liye taqcha bana hua hai

जिधर भी देखिए इक रास्ता बना हुआ है
सफ़र हमारे लिए मसअला बना हुआ है

मैं सर-ब-सज्दा सकूँ में नहीं सफ़र में हूँ
जबीं पे दाग़ नहीं आबला बना हुआ है

मैं क्या करूँ मिरा गोशा-नशीन होना भी
पड़ोसियों के लिए वाक़िआ बना हुआ है

मगर मैं इश्क़ में परहेज़ से बंधा हुआ हूँ
तिरा वजूद तो ख़ुश-ज़ाएक़ा बना हुआ है

बुरीदा शाख़ें हैं या शम्'अ-हा-ए-गुल-शुदा हैं
ख़मीदा पेड़ है या मक़बरा बना हुआ है

मिरे गुनह दर-ओ-दीवार से झलक रहे हैं
मकान मेरे लिए आईना बना हुआ है

शुऊरी कोशिशें मंज़र बिगाड़ देती हैं
वही भला है जो बे-साख़्ता बना हुआ है

किसी दुआ के लिए हाथ उठे हुए 'शाहिद'
किसी दिए के लिए ताक़चा बना हुआ है

- Shahid Zaki
2 Likes

Shajar Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Shahid Zaki

As you were reading Shayari by Shahid Zaki

Similar Writers

our suggestion based on Shahid Zaki

Similar Moods

As you were reading Shajar Shayari Shayari