tere vaade ko kabhi jhooth nahin samjhoonga | तेरे वादे को कभी झूट नहीं समझूँगा - Shahryar

tere vaade ko kabhi jhooth nahin samjhoonga
aaj ki raat bhi darwaaza khula rakkhoonga

dekhne ke liye ik chehra bahut hota hai
aankh jab tak hai tujhe sirf tujhe dekhoonga

meri tanhaai ki ruswaai ki manzil aayi
vasl ke lamhe se main hijr ki shab badloonga

shaam hote hi khuli sadkon ki yaad aati hai
sochta roz hoon main ghar se nahin nikloonga

ta-ki mahfooz rahe mere qalam ki hurmat
sach mujhe likhna hai main husn ko sach likkhoonga

तेरे वादे को कभी झूट नहीं समझूँगा
आज की रात भी दरवाज़ा खुला रक्खूँगा

देखने के लिए इक चेहरा बहुत होता है
आँख जब तक है तुझे सिर्फ़ तुझे देखूँगा

मेरी तन्हाई की रुस्वाई की मंज़िल आई
वस्ल के लम्हे से मैं हिज्र की शब बदलूँगा

शाम होते ही खुली सड़कों की याद आती है
सोचता रोज़ हूँ मैं घर से नहीं निकलूँगा

ता-कि महफ़ूज़ रहे मेरे क़लम की हुरमत
सच मुझे लिखना है मैं हुस्न को सच लिक्खूंगा

- Shahryar
6 Likes

Ghar Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Shahryar

As you were reading Shayari by Shahryar

Similar Writers

our suggestion based on Shahryar

Similar Moods

As you were reading Ghar Shayari Shayari