vo laut aayi hai office se hijr khatm hua | वो लौट आई है ऑफ़िस से हिज्र ख़त्म हुआ - Swapnil Tiwari

vo laut aayi hai office se hijr khatm hua
hamaare gaal pe ik kis se hijr khatm hua

phir ek aag lagi jis mein vasl ki thi chamak
khayaal-e-yaar ki maachis se hijr khatm hua

tha bazm-e-duniya mein mushkil hamaara milna so
nikal ke aa gaye majlis se hijr khatm hua

bhali sharaab hai ye vasl naam hai us ka
bas ek jaam piya jis se hijr khatm hua

tumhaare hijr mein sau vasl se guzar kar bhi
ye sochta hoon kahaan kis se hijr khatm hua

वो लौट आई है ऑफ़िस से हिज्र ख़त्म हुआ
हमारे गाल पे इक किस से हिज्र ख़त्म हुआ

फिर एक आग लगी जिस में वस्ल की थी चमक
ख़याल-ए-यार की माचिस से हिज्र ख़त्म हुआ

था बज़्म-ए-दुनिया में मुश्किल हमारा मिलना सो
निकल के आ गए मज्लिस से हिज्र ख़त्म हुआ

भली शराब है ये वस्ल नाम है उस का
बस एक जाम पिया जिस से हिज्र ख़त्म हुआ

तुम्हारे हिज्र में सौ वस्ल से गुज़र कर भी
ये सोचता हूँ कहाँ किस से हिज्र ख़त्म हुआ

- Swapnil Tiwari
1 Like

Anjam Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Swapnil Tiwari

As you were reading Shayari by Swapnil Tiwari

Similar Writers

our suggestion based on Swapnil Tiwari

Similar Moods

As you were reading Anjam Shayari Shayari