zehan par zor dene se bhi yaad nahin aata ki hum kya dekhte the | ज़ेहन पर ज़ोर देने से भी याद नहीं आता कि हम क्या देखते थे - Tehzeeb Hafi

zehan par zor dene se bhi yaad nahin aata ki hum kya dekhte the
sirf itna pata hai ki hum aam logon se bilkul juda dekhte the

tab humein apne purkhon se virse mein aayi hui baddua yaad aayi
jab kabhi apni aankhon ke aage tujhe shehar jaata hua dekhte the

sach bataayein to teri mohabbat ne khud par tavajjoh dilaai hamaari
tu humein choomta tha to ghar ja ke hum der tak aaina dekhte the

saara din ret ke ghar banaate hue aur girte hue beet jaata
shaam hote hi hum doorbeeno mein apni chhato se khuda dekhte the

us ladai mein dono taraf kuch sipaahi the jo neend mein bolte the
jang taltee nahin thi siroon se magar khwaab mein faakhta dekhte the

dost kisko pata hai ki waqt uski aankhon se phir kis tarah pesh aaya
hum ikatthe the hanste the rote the ik doosre ko bada dekhte the

ज़ेहन पर ज़ोर देने से भी याद नहीं आता कि हम क्या देखते थे
सिर्फ़ इतना पता है कि हम आम लोगों से बिल्कुल जुदा देखते थे

तब हमें अपने पुरखों से विरसे में आई हुई बद्दुआ याद आई
जब कभी अपनी आँखों के आगे तुझे शहर जाता हुआ देखते थे

सच बताएँ तो तेरी मोहब्बत ने ख़ुद पर तवज्जो दिलाई हमारी
तू हमें चूमता था तो घर जा के हम देर तक आईना देखते थे

सारा दिन रेत के घर बनाते हुए और गिरते हुए बीत जाता
शाम होते ही हम दूरबीनों में अपनी छतों से ख़ुदा देखते थे

उस लड़ाई में दोनों तरफ़ कुछ सिपाही थे जो नींद में बोलते थे
जंग टलती नहीं थी सिरों से मगर ख़्वाब में फ़ाख्ता देखते थे

दोस्त किसको पता है कि वक़्त उसकी आँखों से फिर किस तरह पेश आया
हम इकट्ठे थे हँसते​ थे रोते थे इक दूसरे को बड़ा दखते थे

- Tehzeeb Hafi
48 Likes

Fasad Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Tehzeeb Hafi

As you were reading Shayari by Tehzeeb Hafi

Similar Writers

our suggestion based on Tehzeeb Hafi

Similar Moods

As you were reading Fasad Shayari Shayari